ताज़ा ख़बरें

UP:भतीजे के प्रति चाचा के दिल में अभी भी है ‘साफ्ट कार्नर’, शिवपाल बोले- राज्यसभा चुनाव में अखिलेश कहेंगे तो देंगे साथ

लखनऊ |प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव के दिल में आज भी भतीजे सपा अध्यक्ष  अखिलेश यादव के प्रति साफ्ट कार्नर है। बुधवार को उन्होंने कहा कि राज्यसभा चुनाव में अखिलेश यादव कहेंगे तो वे स्वयं और उनके समर्थक विधायक सपा प्रत्याशी के पक्ष में मतदान करेंगे।

प्रदेश में हो रहे विधान सभा उपचुनाव में भी वे कोई उम्मीदवार खड़ा नहीं कर रहे हैं। ताकि 2022 के विधानसभा चुनाव में उनकी पार्टी पूरी ताकत से चुनाव लड़ सके। शिवपाल ने कहा कि वे सेक्यूलर दलों को एकजुट देखना चाहते हैं, ताकि भारतीय जनता पार्टी के जंगलराज को समाप्त किया जा सके।

बताया कि पिछले राज्यसभा चुनाव में उन्होंने समाजवादी पार्टी को वोट दिया था। अब पार्टी प्रत्याशी की जीत के लिए अखिलेश बात करेंगे तभी हम कुछ निर्णय लेंगे। कहा कि हम संघर्ष से नहीं घबराते।

नौजवानों, किसानों की बदहाल स्थित के लिए हम कोई भी संघर्ष और कुर्बानी के लिए तैयार हैं। अब हमारा एक मात्र लक्ष्य 2022 के चुनाव है। सत्ता पलटे बगैर इस प्रदेश को प्रगति के रास्ते पर नहीं लौटाया जा सकता।

प्रसपा अध्यक्ष बुधवार सुबह यहां खटखटा बाबा की कुटिया पर गणेश युवा शोभायात्रा समिति की भगवान गणेश शोभायात्रा रद्द हो जाने के कारण आयोजित एक दिवसीय विशेष गणेश स्थापना एवं हवन पूजन कार्यक्रम का शुभारंभ करने आए थे।

इस अवसर पर कुटिया के महंत मोहनगिरी महाराज तथा शोभायात्रा समिति के अध्यक्ष डॉ. पुष्पेंद्र पुरवार, जितेंद्र वर्मा, अभिषेक पोरवाल बल्लू, कमल कुमार गुप्ता, अंकुर गुप्ता, प्रसपा नगर अध्यक्ष राहुल गुप्ता, खन्ना यादव, राजीव यादव, विनोद यादव, शांतनु गुप्ता, संजीव बंटू, गोपाल गुप्ता आदि ने गणपति बप्पा मोरिया के नारों संग अगवानी और अभिनंदन किया।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.