December 7, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ

26 Years Of DDLJ: 5 दिलचस्प बातें, जो फिल्म की कहानी से भी ज्यादा रोचक हैं!

फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ (Dilwale Dulhania Le Jayenge) 21 अक्टूबर 1995 को रिलीज हुई थी. इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर कई सारे रिकॉर्ड तोड़े थे. मुंबई के मराठा मंदिर में ये फिल्म आज भी दिखाई जाती है. इस फिल्म ने प्यार की एक नई परिभाषा गढ़ी थी.

किंग ऑफ रोमांस’ शाहरुख खान और चुलबुली काजोल स्टारर फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ को रिलीज हुए आज 26 साल हो गए हैं. यह फिल्म 21 अक्टूबर 1995 को रिलीज हुई थी. भारतीय सिने इतिहास में एक अलग स्थान रखने वाली इस फिल्म ने बॉलीवुड को पूरी दुनिया में एक नई पहचान दी थी. राज और सिमरन की इस सच्ची प्रेम कहानी ने प्यार की एक नई परिभाषा गढ़ी थी. हीर-रांझा और लैला-मजनू की इश्क की दास्तान के बीच सिमरन-राज की मुहब्बत भी अमर हो गई.

इस फिल्म के हर कलाकार ने अपने किरदार में जान डाल दी थी. तभी तो शाहरूख खान से लेकर अमरीश पुरी तक जैसे कलाकारों के किरदारों के बारे में आज भी बात की जाती है. इस फिल्म ने प्यार ही नहीं कई रिश्तों को भी नए सिरे से पारिभाषित किया. वरना बाप-बेटी और बाप-बेटे के बीच कड़क संबंध ही जाते थे. इस फिल्म की कहानी जितनी दिचस्प है, उससे ज्यादा रोचक इसकी शूटिंग से जुड़े किस्से हैं. इस खास मौके पर आइए जानते हैं फिल्म से जुड़ी 10 खास बातों के बारे में…

 

1. फिल्म के लिए पहली पसंद नहीं थे शाहरूख

फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ के सबसे बड़े और लीड रोल के लिए शाहरुख खान पहली पसंद नहीं थे. डायरेक्टर आदित्य चोपड़ा इस फिल्म में टॉम क्रूज को बतौर लीड कास्ट करना चाहते थे. उस वक्त तक फिल्म का नाम भी ‘द ब्रेवहर्ट विल टेक द ब्राइड’ रखा गया था. लेकिन आदित्य के पिता यश चोपड़ा के दिमाग में कुछ और ही चल रहा था. चूंकि फिल्म रोमांटिक थी और भारतीय दर्शकों के लिए बनाई जानी थी, इसलिए वो चाहते थे कि टॉम की जगह शाहरुख को कास्ट किया जाए. काफी समझाने के बाद आदित्य पिता की बात मान गए. लेकिन जब ये रोल शाहरुख को ऑफर किया गया, तो उन्होंने भी इतनी आसानी इसे स्वीकार नहीं किया. इसके लिए आदित्य चोपड़ा को शाहरुख के साथ चार बार मीटिंग करनी पड़ी, तब जाकर उन्होंने फिल्म साइन किया. वैसे यदि शाहरुख नहीं मानते तो आदित्य की अगली पसंद सैफ अली खान थे. लेकिन शायद किस्मत इसी को कहते हैं, इस फिल्म के जरिए ही शाहरुख खान को किंग ऑफ रोमांस का खिताब मिलना था.

2. फिल्म का फाइनल टाइटल किरण खेर ने दिया

फिल्म का नाम पहले ‘द ब्रेवहर्ट विल टेक द ब्राइड’ रखा गया था. लेकिन अपने जमाने की मशहूर अदाकार किरण खेर को ये नाम सही नहीं लग रहा था. उन्होंने आदित्य चोपड़ा से इसे बदलने की बात कही, तो उन्होंने सुझाव मांग दिया. इसके बाद फिल्म का टाइटल ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ किरण खेर ने सजेस्ट किया था. इस बात का जिक्र यशराज फिल्म्स द्वारा पब्लिश की गई बुक ‘आदित्य चोपड़ा रिलिव्स…दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ में आदित्य चोपड़ा ने खुद किया है. उन्होंने लिखा है, ”किरण जी को यह आइडिया 1974 में आई फिल्म ‘चोर मचाए शोर’ के गाने ले जाएंगे..ले जाएंगे…दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे सुनकर आया था. जब मैंने उनसे यह आइडिया सुना तो मुझे काफी पसंद आया और यह टाइटल फाइनल हो गया.” वैसे टाइटल काफी लंबा था, लेकिन दर्शकों को ये फिल्म इतनी पसंद आई कि लोगों ने इसको शॉर्ट में DDLJ कहना भी शुरू कर दिया. खासकर उस वक्त के युवाओं में ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ की जगह DDLJ कहने का ही चलन था.

3. हॉलीवुड की फिल्म से प्रेरित था ‘पलट सीन’

फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ में शाहरुख खान पर फिल्माया गया मशहूर ‘पलट सीन’ एक हॉलीवुड फिल्म से प्रेरित था. साल 1993 में रिलीज क्लिंट ईस्टवुड की अमेरिकन फिल्म ‘इन द लाइन ऑफ फायर’ के एक सीन से ‘पलट सीन’ इंस्पायर्ड था. फिल्म के निर्मात-निर्देशक आदित्य चोपड़ा ने जब यह फिल्म देखी तो ईस्टवुड का उन्हें वो सीन याद रह गया जिसमें जब एक्टर की गर्लफ्रेंड जा रही होती है और वह उसे टर्न होने के लिए कहते हैं. बाद में डीडीएलजे में उन्होंने इसी सीन से इंस्पायर होकर राज-सिमरन पर ‘पलट सीन’ क्रिएट कर दिया. बताया जाता है कि डीडीएलजे की स्क्रिप्ट लिखने में आदित्य चोपड़ा को केवल एक महीने का समय लगा था. इसके साथ ही भारतीय सिने इतिहास की यह पहली ऐसी फिल्म थी, जिसने अपनी मेकिंग को भी प्रोड्यूस किया था. तकनीकी तौर पर तब से उसे ‘बिहाइंड द सीन’ के नाम से जानते हैं. आदित्य चोपड़ा के छोटे भाई उदय चोपड़ा फिल्म में उनके असिस्टेंट थे जिन्हें मेकिंग रिकॉर्ड करने की जिम्मेदारी मिली थी.

4. शाहरुख खान के किरदार के नाम की कहानी

आदित्य चोपड़ा ने फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ में शाहरुख खान के किरदार का नाम ‘राज’ रखा है, जो कि बॉलीवुड के सबसे बड़े शोमैन राज कपूर से प्रेरित था. फिल्म में उनका पूरा नाम राजनाथ था, जो कि 1973 की फिल्म ‘बॉबी’ में ऋषि‍ कपूर के नाम से प्रेरित था. फिल्म के एक सीन में अनुपम खेर शाहरुख खान को अपने दादा परदादा की पढ़ाई में नाकामयाबी के किस्से सुनाते हैं. वो दरअसल अनुपम खेर के सगे अंकल के नाम हैं जो कि वाकई पढ़ाई में कुछ खास अच्छे नहीं थे. यही वो पहली फिल्म थी जिससे मंदिरा बेदी ने बड़े पर्दे पर अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत की थी. फिल्म में पहनी शाहरुख खान की फेमस लेदर जैकेट उदय चोपड़ा ने कैलिफोर्निया के बेकर्सफील्ड में हार्ले-डेविडसन के शोरूम से 400 डॉलर में खरीदी थी.

5. अरमान को ये फिल्म भी मिलते-मिलते रह गई

बिग बॉस फेम एक्टर अरमान कोहली को बॉलीवुड का सबसे दुर्भाग्यशाली अभिनेता माना जाता है. उन्होंने जितनी फिल्में की नहीं है, उससे कहीं ज्यादा ठुकराई हैं या मिलते-मिलते रह गई हैं. जैसे कि फिल्म दीवाना में शाहरूख खान का रोल उनको मिल रहा था, लेकिन उन्होंने इंकार कर दिया. उसी तरह फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ में काजोल के किरदार सिमरन के मंगेतर कुलजीत के रोल के लिए भी पहले अरमान कोहली से बात की गई थी. लेकिन ऑडिशन वाले दिन परमीत सेठी बूट्स, जीन्स और वेस्टकोर्ट पहन कर आए, तो स्क्रीन टेस्ट में पास हो गए. इसके बाद अरमान की जगह परमीत को फिल्म में कास्ट कर लिया गया. ‘मेहंदी लगा के रखना’ गाने में काजोल के लिए मनीष मल्होत्रा ने हरे रंग का सूट डिजाइन किया. लेकिन आदित्य चोपड़ा ने कहा कि पंजाबी परिवारों में लड़कियां लाल, मरून या गुलाबी कपड़े पहती हैं. इसके बाद उनके सूट का रंग बदलना पड़ा. इस फिल्म का एक मशहूर गाना ‘तुझे देखा तो ये जाना सनम’ गुड़गांव में शूट किया गया था.

 

26 साल बाद नए रूप में DDLJ, इस नाम से आदित्य चोपड़ा करेंगे डायरेक्ट

निर्माता निर्देशक आदित्य चोपड़ा अपने करियर में एक नया प्रयोग करने जा रहे हैं। बतौर निर्देशक अपनी पहली फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ की रिलीज के 26 साल बाद वह इसी फिल्म को फिर से निर्देशित करने जा रहे हैं लेकिन इस बार ये कहानी एक संगीतमय नाटक यानी ब्रॉडवे के तौर पर रंगमंच पर पेश की जाएगी। ‘कम फॉल इन लव: द डीडीएलजे म्यूजिकल’ का प्रीमियर अमेरिका के सैन डिएगो स्थित ओल्ड ग्लोब थिएटर में होगा। आदित्य अपने करियर के इस अहम प्रयोग पर पिछले तीन साल से काम करते रहे हैं। इस ब्रॉडवे के लिए विशाल-शेखर बतौर संगीतकार जुड़ चुके हैं। इनके अलावा आदित्य ने अपनी इस पहली रंगमंचीय प्रस्तुति के लिए अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध दिग्गज तकनीशियनों की टीम जुटाई है। आदित्य का मानना रहा है कि म्यूजिकल ब्रॉडवे बहुत हद तक भारतीय फिल्मों जैसा ही है और ये बरसों से बिछड़ी दो ऐसी धाराएं हैं जिनका संगम उनके पहले ब्रॉडवे शो ‘कम फॉल इन लव: द डीडीएलजे म्यूजिकल’ में होगा। कम लोगों को ही पता होगा कि फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ को आदित्य पहले एक अंग्रेजी फिल्म के रूप में ही बनाना चाहते थे और तब वह इस फिल्म के हीरो के रूप में टॉम क्रूज को लेना चाहते थे।

 

 

यशराज फिल्म्स के मौजूदा चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्टर आदित्य चोपड़ा ने 1995 में रिलीज हुई रोमांटिक फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ से अपना निर्देशन करियर शुरू किया था। डीडीएलजे के नाम से लोकप्रिय यह फिल्म भारतीय सिनेमा के इतिहास की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्मों में गिनी जाती है। अब 26 साल बाद आदित्य डीडीएलजे को फिर से निर्देशित करने जा रहे हैं लेकिन इस बार ब्रॉडवे डायरेक्टर के तौर पर। आदि का मानना है कि ब्रॉडवे और भारतीय फिल्में लंबे समय से बिछड़े हुए दो प्रेमी की तरह हैं। इसकी वजह वह दोनों की आंतरिक समानताओं को मानते हैं क्योंकि ये दोनों दिल को छू लेने वाली कहानियों, संगीत नृत्य की मदद से मानवीय भावनाओं का उत्सव मनाते हैं। जानकारी के मुताबिक आदित्य पिछले तीन साल से अपनी इस योजना पर काम करते रहे हैं।

 

 

ब्रॉडवे की अपने पहले अनुभव को याद करते हुए आदित्य चोपड़ा बताते हैं, ‘साल 1985 की गर्मियां। मैं 14 साल का था और लंदन में छुट्टियां बिता रहा था। मेरे माता-पिता मेरे भाई और मुझे म्यूजिकल थिएटर का पहला एहसास दिलाने के लिए ले गए। रोशनी धीमी हो गई, पर्दे उठ गए और अगले तीन घंटों के दौरान जो कुछ सामने पेश हुआ उसने मुझे अवाक और स्तब्ध कर दिया! तब तक मैं एक ऐसा बच्चा हुआ करता था, जो बड़े शौक और उत्सुकता के साथ फिल्में देखता था और उस वक्त मुझे बिग स्क्रीन पर इंडियन ब्लॉकबस्टर सबसे ज्यादा पसंद आती थीं। लेकिन उस दिन स्टेज पर मैंने जो देखा, उसने मेरे होश उड़ा दिए। मुझे यकीन ही नहीं हो रहा था कि इस तरह का स्पेक्टेकल स्टेज पर लाइव रचा जा सकता है। लेकिन इस अनुभव का सबसे महत्वपूर्ण पहलू मेरे मन में यह गूंजा कि म्यूजिकल थिएटर हमारी इंडियन फिल्मों से कितना मिलता-जुलता है।’

 

 

अपनी बात को और साफ करते हुए आदि कहते हैं, ‘हकीकत सिर्फ इतनी नहीं थी कि कहानी सुनाने के लिए ये दोनों गानों का इस्तेमाल करते हैं, बल्कि बात इससे कहीं ज्यादा गहरी थी। दरअसल दोनों हूबहू एक जैसी भावनाएं जगाते थे। रंगों की बौछार, बेहद नाटकीयता, जोशीला गायन, बेदाग डांस, एक क्लासिक कहानी, एक सुखद अंत। इसने मुझे उसी तरह की खुशियों और भावनाओं से भर दिया जो कोई भी अच्छी इंडियन फिल्म करती है। तभी मुझे एहसास हुआ कि अलग दुनिया, अलग भाषाओं के बावजूद इंडियन फिल्में और वेस्टर्न म्यूजिकल थिएटर लंबे समय से बिछड़े हुए दो प्रेमी हैं।’

 

 

अपने करियर के बेहद अहम प्रयोग के बारे में बताते हुए आदित्य चोपड़ा कहते हैं, ‘मैं अपने अब तक के सबसे महत्वाकांक्षी प्रोजेक्ट का शुभारंभ करने जा रहा हूं। मैं लंबे समय से बिछड़े दो प्रेमियों- ब्रॉडवे म्यूजिकल और भारतीय फिल्मों का पुनर्मिलन करा रहा हूं। 26 साल पहले मैंने अपने करियर की शुरुआत ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ से की थी। इस फिल्म ने इतिहास रच दिया और इसने मेरे साथ कई अन्य लोगों की जिंदगी हमेशा के लिए बदल दी लेकिन ज्यादातर लोगों को ये पता ही नहीं है कि डीडीएलजे को हिंदी में बनाने का मेरा इरादा कभी भी नहीं था। एक 23 वर्षीय युवक के तौर पर मैं हॉलीवुड और अमेरिकी पॉप कल्चर से बेहद प्रभावित था और मैंने सोच रखा था कि कुछ भारतीय फिल्में बनाने के बाद मैं हॉलीवुड भाग जाऊंगा और टॉम क्रूज को मेन लीड में लेकर वर्ल्डवाइड अंग्रेजी बोलने वाली ऑडियंस के लिए डीडीएलजे बनाऊंगा।’

 

कम फॉल इन लव: द डीडीएलजे म्यूजिकल’ का निर्माण यशराज फिल्म्स कर रहा है। चोपड़ा की ओरिजिनल कहानी पर आधारित इस म्यूजिकल में लॉरेंस ओलिवर अवार्ड विनर नेल बेंजामिन की बुक और गीत होंगे। विशाल ददलानी और शेखर रावजियानी बतौर कंपोजर इसमें काम करेंगे। फ्रोजन, थॉरोली मॉडर्न मिली, द ब्वॉयज फ्रॉम सिरैक्यूज के लिए चर्चित टोनी व एमी विनर रॉब ऐशफोर्ड एसोसिएट कोरियोग्राफर श्रुति मर्चेंट के साथ इस प्रोडक्शन की कोरियोग्राफी करेंगे। डिजाइन टीम इस ब्रॉडवे के लिए एमी और टोनी एवार्ड-विनर डेरेक मैकलेन की तैयार गई सेट डिजाइन पर काम करेगी और इसके संगीत की देखरेख टोनी, ग्रैमी व एमी एवार्ड विनर बिल शेरमैन करेंगे। एडम जोटोविच इस प्रोजेक्ट के इग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर हैं। ‘कम फॉल इन लव: द डीडीएलजे म्यूजिकल’ को अगले साल रंगमंच पर पेश करने की तैयारी शुरू हो चुकी है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

CCC Online Test 2021 CCC Practice Test Hindi Python Programming Tutorials Best Computer Training Institute in Prayagraj (Allahabad) Best Java Training Institute in Prayagraj (Allahabad) Best Python Training Institute in Prayagraj (Allahabad) O Level NIELIT Study material and Quiz Bank SSC Railway TET UPTET Question Bank career counselling in allahabad Sarkari Naukari Notification Best Website and Software Company in Allahabad Website development Company in Allahabad
Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Webinfomax IT Solutions by .