Author Archives

सच के साथ - A.k.Verma

सच के साथ

नेता ही नहीं जनता भी है भ्रष्ट?

नेता नहीं जनता भी भ्रष्ट है? वर्तमान मे भ्रष्टाचार चर्चा का अहम मुद्दा बना हुआ है। ऐसा नहीं है की, यह कल नहीं था। देश का हर व्यक्ति भ्रष्टाचार के खिलाफ है, […]

ना पाप से घृणा करो और……..ना पापी से !

दो जुमलों ने हमारे समाज को बहुत बेडा गर्क है कि- “पाप से घृणा करो, पापी से नहीं” और “कानून अपना काम कर रहा है” । समस्या यही है कि कानून अपना […]

फ़िरोज गांधी को आप भूल गए क्या?

आज अगर लोगों के सामने फ़िरोज़ गांधी का ज़िक्र किया जाए तो ज़्यादातर लोगों के मुंह से यही निकलेगा- ‘फ़िरोज़ गाँधी कौन?’ बहुत कम लोग फ़िर इस बात को याद कर पाएंगे […]

किसी के पास पैसा है तो किसी के पास दिल;

  ज़िंदगी में कई बार आपका वास्ता ऐसे लोगों से पड़ता है जो पैसे वाले होते हैं, मगर ख़र्च करने में कंजूसी करते हैं. बहुत से लोग इन जैसे लोगों के बारे […]

Shivaji Maharaj Death Anniversary 2019: कुशल कूटनीतिज्ञ, शूरवीर और महिलाओं को सम्मान देनेवाले साहसी योद्धा थे शिवाजी महाराज

Shivaji Maharaj Death Anniversary 2019: हिंदुस्तान में ऐसे कई महापराक्रमी शूरवीर राजा पैदा हुए, जिनकी शौर्य गाथाएं सुनकर गर्व महसूस होता है कि हमने ऐसे देश में जन्म लिया. ऐसे ही एक […]

आजादी (1947) से पहले बस्ती जिला किस रियासत में था?

  अयोध्या से सटा यह जिला प्राचीन काल में कोशल देश का हिस्सा था। रामचंद्र राजा दशरथ के ज्येष्ठ पुत्र थे जिनकी महिमा कौशल देश में फैली हुई थी जिन्हें एक आदर्श […]

मदद के तरीके कई हैं सिर्फ कर्म करने की तीव्र इच्छा मन में होनी चाहिए।

जिंदगी मे हम कितने सही और कितने गलत है, ये सिर्फ दो ही शख्श जानते है- परमात्मा और अपनी अंतरआत्मा। एक समय की बात है। मैं पैदल वापस घर आ रहा था। […]

“बेल्ट ऐंड रोड फोरम” दुनिया पर दबदबा बनाने की चीन की एक चाल

चीन ने दुनिया पर दबदबा बनाने के लिए अभी से एक ऐसी चाल चली है, जो 2049 तक उसे सबसे ताकतवर देश बनाने में बेहद मददगार साबित होगी. चीन की इस नई […]

किस देश के पास है हैकर्स की सबसे बड़ी सेना?

साल 2018 अगस्त महीने में हर साल की तरह, अमरीका के लास वेगस में एक ख़ास मेला लगा. ये मेला था, हैकर्स का. जिसमें साइबर एक्सपर्ट से लेकर बच्चों तक, हर उम्र […]

अल्बर्ट आइंस्टीन के कमरे में लगी दो तस्वीरों में से एक महात्मा गांधी की ही क्यों थी?

आइंस्टीन को जब-जब लगा कि विज्ञान और एकतरफा तर्कवाद मानवजाति के लिए संकट बन सकता है, तब-तब उनके सामने गांधी का जीवन एक आदर्श के रूप में सामने आता रहा। दुनिया के […]