August 9, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

Basti Circle: डीआईजी ने तीनों जनपदों में गठित मॉनिटरिंग सेल की समीक्षा की

डीआईजी ने तीनों जनपदों में गठित मॉनिटरिंग सेल की समीक्षा की

बस्ती 13 जुलाई।पुलिस उपमहानिरीक्षक परिक्षेत्र बस्ती द्वारा परिक्षेत्रीय कार्यालय पर तीनों जनपदों बस्ती संतकबीरनगर एवं सिद्धार्थनगर के मानिटरिंग सेल की गोष्ठी कर मानीटरिंग सेल में नियुक्त अधिकारी कर्मचारीगण द्वारा किये जा रहे कार्यों की समीक्षा की गयी।

आईजी द्वारा गोष्ठी में उपस्थित तीनों जनपदों के मानीटरिंग सेल प्रभारियों से परिचय लिया गया एवं मॉनीटरिंग सेल में नियुक्ति के सम्बन्ध में पूछा गया तत्पश्चात् इनके द्वारा किये जा रहे कार्य के विषय में जानकारी की गयी यथा पैरवी हेतु चिन्हित होने वाले अपराधों का चिन्हीकरण किसके द्वारा किया जाता है एवं चिन्हीकरण हेतु क्या मानक अपनाया जाता है पैरवी किये जाने वाले अभियोगों में निकट भविष्य में कौन-कौन से मुकदमों में गवाहों को बुलाया जाना है, गोष्ठी में समीक्षा के दौरान उपलब्ध कराये गये आंकड़ों में कितने गवाह परिक्षित हैं और कितने गवाहों की गवाही हो गयी तथा कितने शेष हैं, के सम्बन्ध में कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दिया गया।

आईजी ने कहा कि तीनों जनपदों के मानिटरिंग सेल द्वारा की जा रही पैरवी के कार्यों से मैं पूर्णत संतुष्ट नहीं हूँ ऐसा परिलक्षित हो रहा है कि सम्बन्धित अपर पुलिस अधीक्षक क्षेत्राधिकारी द्वारा नियमित रूप से मानीटरिंग सेल के कार्यों की समीक्षा नहीं की जा रही है और न ही कोई समुचित निर्देश दिये जा रहे हैं।

महोदय ने तीनों जनपदों के पुलिस पुलिस अधीक्षकगण को निर्देशित किया कि मानीटरिंग सेल द्वारा की जा रही पैरवी की समीक्षा नियमित रूप से सम्बन्धित अपर पुलिस अधीक्षक क्षेत्राधिकारी से कराते हुये स्वयं भी नियमित रूप से मानीटरिंग सेल द्वारा किये जा रहे कार्यों की समीक्षा करें गोष्ठी के दौरान महोदय ने समस्त मानीटरिंग सेल प्रभारी को निम्न निर्देश दिये जनपद स्तर पर चिन्हित टॉप-10 अपराधी माफिया अपराधी या ऐसे अपराधी जो किसी विशेष घटना से सम्बन्ध रखते हैं उन मुकदमों को मानीटरिंग हेतु चयन किया जाय।

ऐसे अभियोग जो मा० न्यायालय उच्चाधिकारीगण द्वारा चिन्हित पर्यवेक्षण किये जा रहे हों को अपने चिन्हित केसों से अवश्य मिलान कर लें कि आपकी चयन सूची में यह केस है या नहीं विवेचक से पैरवी में लगे अभियोग की पूर्व में ही जानकारी प्राप्त कर लिया जाए, जिससे किसी प्रकार की कोई संशय की स्थिति न रहे।

चिन्हित केस की पैरवी में क्या-क्या कार्यवाही की जानी है की रिपोर्ट तैयार कर ली जाय वादी साक्षी से सम्पर्क कर लिया जाय कि उसे साक्ष्य देने में किसी प्रकार की कोई समस्या आदि तो नहीं आ रही है स्थानीय थाना क्षेत्राधिकारी से सम्पर्क कर साक्ष्य हेतु प्रस्तुत किये जाने वाले माल के सम्बन्ध में वार्ता कर लिया जाय मानीटरिंग सेल प्रभारी स्वयं न्यायालय में उपस्थित रहकर वादी स्वतंत्र साक्षी से मिले वादी साक्षी को एस०पी०ओ० से मिलवायें तथा केस के सम्बन्ध में जानकारी करायें साक्षी से वार्ता कर उसकी सुरक्षा सुनिश्चित कर लिया जाय।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.