June 25, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

Basti News: वाल्टरगंज और बस्ती चीनी मिल की बिक्री प्रक्रिया अंतिम दौर में

●वाल्टरगंज और बस्ती चीनी मिल की बिक्री प्रक्रिया अंतिम दौर में

●जी मल्टी सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड निदेशक कमरुद्दीन जलालुद्दीन से मिल प्रबंधन की चल रही है बातचीत

●देवरिया जनपद के प्रतापपुर यूनिट को भी खरीदने की चल रही है प्रक्रिया

बस्ती/वाल्टरगंज 22 जून|किसी जमाने में चीनी का कटोरा कहा जाने वाला पूर्वांचल की चीनी मिलें एक-एक करके बंद होती चली गई और परिणाम यह रहा कि गन्ना किसानों का गन्ने से मोह भंग होता चला गया बस्ती और वाल्टरगंज क्षेत्र में गन्ना किसान अधिक से अधिक गन्ने की पैदावार करते थे। भले ही चीनी मिल भुगतान विलंब से देती थी फिर भी गन्ना किसान गन्ने की खेती के प्रति अपनी रुचि दिखाते थे दोनों चीनी मिलों को अपना गन्ना आपूर्ति करते थे लेकिन संजोग रहा की वर्ष 2013 से बस्ती चीनी मिल बंद हो गयी और वर्ष 2018 वाल्टरगंज चीनी मिल बंद हो गई और गन्ना किसानों को गहरा झटका लगा और धीरे-धीरे गन्ने की खेती से मोह भंग होता चला गया।

बस्ती जनपद के गन्ना किसानों को खुशहाल करने के लिए बस्ती और वाल्टरगंज चीनी मिल को फेनिल शुगर लिमिटेड के डायरेक्टर प्रदीप कुमार श्रीवास्तव बेचने की बात कर रहे हैं नए क्रेता के रूप में जी मल्टी सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड लखनऊ के प्रोपराइटर कमरुद्दीन जलालुद्दीन मैदान में है उनकी मंशा है कि बस्ती चीनी मिल जो चलने योग्य नहीं है उसको पूरी तरह से समाप्त करके भविष्य में नया उद्योग लगाने की योजना रखते हैं वही गोविंद नगर शुगर मिल को पूरी क्षमता के साथ चलाने की मनसा रखते हुए खरीदारी प्रक्रिया में लगे हुए हैं ।

कमरुद्दीन जलालुद्दीन ने बताया कि दोनों चीनी मिलों को खरीदने के लिए बजाज के कुछ अधिकारियों से वार्ता चल रही है और कई दौर की बैठक हो चुकी है दोनों कंपनियों में आपसी सहमति बन चुकी है जो जल्द ही धरातल पर दिखाई देगा। इसके साथ ही साथ नए खरीदार जिला प्रशासन से भी अपनी मंशा स्पष्ट करते हुए वालसन चीनी मिल को चलाने की बात कर चुके हैं इन दोनों चीनी मिलों को लेकर नए खरीदार गन्ना आयुक्त संजय भूसरेड्डी से मुलाकात करके दोनों चीनी मिलों के बारे में अपनी योजनाओं से अवगत करा दिया है।

इसके साथ ही साथ प्रदेश के बंद पड़े अन्य चीनी मिलों को खरीदने और चलाने की योजना बना रहे हैं इसी क्रम में देवरिया जनपद में बजाज हिंदुस्तान शुगर लिमिटेड की प्रतापपुर यूनिट के खरीदने की बात कर रहे हैं यदि सबकुछ सही रहा तो आने वाले समय में बस्ती और देवरिया जनपद के गन्ना किसानों के लिए बहुत ही सुखद समाचार होगा हालांकि बस्ती वाल्टरगंज चीनी मिल खरीदने को लेकर फेनिल शुगर के डायरेक्टर प्रदीप कुमार श्रीवास्तव ने समाचार पत्रों के माध्यम से आम लोगों को अवगत भी कराया है कि मेरे कंपनी के शेयरों को हस्तांतरण करने की बातचीत जी मल्टी सर्विस प्राइवेट लिमिटेड लखनऊ से चल रही है वही आपको यह भी बता दें वाल्टरगंज चीनी मिल को चलाने और किसानों का करोड़ों गन्ना बकाया तथा मजदूरों के बकाए वेतन को लेकर मजदूर गन्ना किसान और भारतीय किसान यूनियन जिला प्रशासन और सरकार पर लगातार दबाव बनाएं हुए हैं।

यदि प्रशासन ने चीनी मिल चलाने या उसे विक्रय करने का दबाव फेनिल शुगर लिमिटेड के अधिकारियों पर बना ले जाता है तो निश्चित तौर पर वाल्टरगंज चीनी मिल चलने का रास्ता साफ हो सकता है। इस मामले में मिलकर नए खरीदार कमरुद्दीन जलालुद्दीन ने कहा कि गन्ना किसानों और मजदूरों की समस्याओं को समाप्त करने के लिए मेरी वार्ता बस्ती और वाल्टरगंज चीनी मिल खरीदने की चल रही है जो अंतिम दौर में है इसके साथ ही साथ प्रदेश में अन्य नई चीनी मिलें लगाने या बंद पड़ी चीनी मिल चलाने की सरकार द्वारा कोई प्रस्ताव दिया जाता है तो उस पर भी विचार किया जाएगा ,वर्तमान समय में देवरिया जनपद के बजाज शुगर लिमिटेड प्रतापपुर को भी खरीदने की बात हो रही है मिल का स्थलीय निरीक्षण किया जा चुका है और जल्द ही इस पर फैसला लिया जाएगा।

कुल मिलाकर या कहां जाएगी यदि सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो आने वाले समय में वाल्टरगंज चीनी मिल से एक बार फिर धुआं उठता नजर आएगा और क्षेत्र में गन्ने की फसल को लहराते हुए देखा जा सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.