December 3, 2020

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

Bihar:खुद हारकर चिराग ने भाजपा (BJP) को बड़ी जीत दिला दी;सबसे बड़े नेता बनकर उभरे तेजस्वी:जानिए

पटना: बिहार विधान सभा चुनाव में लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) को सिर्फ एक सीट मिली और पार्टी को बुरी तरह हार का सामना करना पड़ा, लेकिन चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने खुद हारकर भाजपा (BJP) को बड़ी जीत दिला दी. बीजेपी को बिहार चुनाव में 74 सीटों पर जीत मिली, जबकि नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू ने 43 सीटों पर जीत दर्ज की. तो चलिए बताते हैं किस तरह चिराग पासवान ने बीजेपी को फायदा पहुंचाया.

वोटर्स को महागठबंधन में जाने से रोका
15 साल से लगातार बिहार में नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की सरकार है और जनता को सरकार से जो थोड़ी बहुत नाराजगी थी. ऐसे में वोटर्स महागठबंधन के पक्ष में जा सकते हैं थे, लेकिन लोजपा ने इन वोटों को महागठबंधन में जाने से रोका. इसके अलावा चिराग पासवान (Chirag Paswan) की पार्टी ने दो दर्जन से अधिक सीटों पर जदयू को सीधा नुकसान पहुंचाया और इसका फायदा बीजेपी को हुआ, जो एनडीए की नंबर एक पार्टी बन गई.

क्या भाजपा ने बनाई थी ये रणनीति?
चुनाव की अधिसूचना जारी होने के बाद चिराग पासवान ने अकेले चुनाव लड़ने का फैसला किया और नीतीश कुमार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया, हालांकि वह कभी भी बीजेपी के खिलाफ नहीं थे. लोजपा ने जेडीयू के खिलाफ उम्मीदवार उतारे, जबकि बीजेपी के कई बागी नेताओं को टिकट दिया. इसके बाद यह चर्चा हुई थी कि नीतीश सरकार से नाराज वोटर्स को विपक्षी खेमे में जाने से रोकने के लिए बीजेपी ने यह रणनीति बनाई है.

आगे क्या है चिराग की प्लानिंग
बिहार में हार के बाद चिराग की आगे की प्लानिंग केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल होने की है. बताया जा रहा है कि वह अपने पिता की जगह केंद्रीय मंत्री बनना चाहते हैं. इसके अलावा वह पिता की जगह अपनी मां को राज्य सभा (Rajya Sabha) भेजना चाहते हैं.

सबसे बड़े नेता बनकर उभरे तेजस्वी;

सत्ता की स्टियरिंग नीतीश के पास होगी, इस पर भरोसा कर 2015 में जनता ने जनादेश दिया। तब वो उसी कथित जंगलराज के मुखिया लालू यादव के साथ चुनाव लड़ रहे थे जिसका भय दिखाकर 2020 में वोट मांगा। लेकिन 2020 का जनादेश बताता है कि नीतीश की ड्राइविंग स्किल पर अब जनता को उतना भरोसा नहीं रहा। जनादेश ने साफ कर दिया कि छोटे भाई नीतीश कुमार न सिर्फ बीजेपी की बैसाखी पर बिहार की गाड़ी चलाएंगे बल्कि मुकेश सहनी और जीतनराम मांझी भी उन्हें डिक्टेट करेंगे।

पोल पिच पर बीजेपी ने बैटिंग की और जेडीयू की स्ट्राइक रेट को स्लो कर दिया। पार्टी के नाम पर चिराग ने धारदार बोलिंग की। स्ट्राइक रेट के मामले में जो जेडीयू (JDU) के साथ एनडीए (NDA) में हुआ है, वही हाल कांग्रेस के साथ हुआ है महागठबंधन में। शायद आरजेडी के वोटर्स अपने को कांग्रेस के साथ इतना एलाइन नहीं कर पाए जिसका खामियाजा कांग्रेस को उठाना पड़ रहा है। कांग्रेस 70 सीटों पर चुनाव लड़ रही थी और उनमें से 19 सीटों पर ही जीत हासिल हुई।

बिहार चुनाव में स्ट्रांग लीडर के रूप में उभर के सामने आए तेजस्वी यादव

बिहार की जो पॉलिटिक्स है वो मल्टीलेटरल से खत्म होकर बाइपोल होने जा रही है। हो सकता है कि अगला जो विधानसभा चुनाव हो उसमें भारतीय जनता पार्टी का सीधा मुकाबला जेडीयू से हो। चुनाव को लेकर दो निष्कर्ष सामने हैं। पहला यह कि तेजस्वी यादव बिहार चुनाव में स्ट्रांग लीडर के रूप में उभर के सामने आए हैं, मैं सिर्फ इस चुनाव की बात कर रहा हूं। अगर सीट वाइज़ देखा जाए, कद के हिसाब से देखें तो निश्चित तौर पर नीतीश कुमार एक जीते हुए गठबंधन के नेता होंगे, उनको शायद एनडीए के विधायक दल का नेता भी चुना जाए और वो सीएम भी बन जाएं लेकिन बड़े नेता के तौर पर मौजूदगी दर्ज कराई है तेजस्वी यादव ने।कहेंगे कैसे..

इस चुनाव के बाद पॉलिटिक्स में ‘पोस्ट ग्रेजुएट’ हो गए तेजस्वी

आज से पांच साल पहले जब तेजस्वी यादव को लालू यादव ने एक तरीके से प्रोजेक्ट करना शुरू किया था, तब एक रैली हुई थी अगस्त 2017 में पटना के गांधी मैदान में, तब वहां पर सीधे तौर पर तेजस्वी ने शंखनाद किया। उस रैली में तेजस्वी यादव में जो एक पॉलिटिकल विट होता है, तंज करना होता है, एक अटैकिंग मोड होता है, उसकी उनमें कहीं न कहीं कमी थी, या यूं कहें वो पॉलिटिक्स में अंडर ग्रेजुएट थे। आज इस चुनाव के बाद हमें ये पता चल रहा है कि वो पोस्ट ग्रेजुएट हो गए हैं। तेजस्वी के लिए अच्छी बात यह है कि वो अभी मात्र 31 साल के ही हैं। उन्होंने कल ही अपना जन्मदिन मनाया है। आने वाले पांच साल के बाद, इस हार के बावजूद वो एक मजूबत स्थिति में होंगे।

पिछले 40 दिन में तेजस्वी ने अपनी तरफ मोड़ा हवा का रुख

-40-

जब चुनाव की घोषणा हो रही थी तब ऐसी स्थिति थी कि तेजस्वी यादव, राहुल गांधी चुनाव आयोग के पास गए और कहा कि अभी कोरोना चल रहा है तो इलेक्शन मत कराओ, बाद में करा लेना जब कोरोना ठीक हो जाए। निश्चित तौर पर जो अपने को कमजोर मानता है, वो इस तरह की बातें करता है। एनडीए ने कभी नहीं कहा कि हम चुनाव से भाग रहे हैं। लेकिन पिछले 40 दिन में तेजस्वी यादव ने किस तरह से हवा का रुख अपनी तरफ मोड़ा, नया एजेंडा सामने रखा, यूथ से कनेक्ट करने की कोशिश की, बेरोजगारी को बड़ा मुद्दा बनाया, जातिवाद के दलदल में फंसी बिहार की राजनीति जो एजेंडा विहीन राजनीति है, उसमें एजेंडी की राजनीति जिसकी कल्पना लालू यादव की पार्टी से नहीं करते थे, उसकी शुरुआत तेजस्वी यादव ने की। इसके लिए तेजस्वी यादव ने किसको छाया में रखा- अपने पिता को, मां को, बहन को अपने भाई को। तेजस्वी ने बड़ी रणनीति बनाई- आरजेडी के किसी पोस्टर में लालू यादव, राबड़ी देवी और उनकी बहन नहीं दिखी। जब ये नहीं दिखते थे तो एनडीए के नेताओं को लगता था कि अगर ये होते तो ज्यादा अटैक करने का उनको मौका मिलता। लेकिन तेजस्वी यादव ने जिस तरीके से अपने रणनीतिकारों की टोली बनाई और काम किया, आज की तारीख में इसके लिए तेजस्वी यादव को शाबाशी देनी होगी।

जंगलराज’ से लेना-देना नहीं

तेजस्वी यादव यह मैसेज देने में पूरी तरह से कामयाब रहे कि लालू के कथित ‘जंगलराज’ से उनकी राजनीति से कोई लेना देना नहीं है। वो 31 साल के बिहार के नौजवान है, चाहे वो नौवीं पास हों या फेल हों लेकिन उनके पास एक विजन है एक विजन है कि यहां हम रोजगार पैदा करेंगे, यहां हम इंडस्ट्री लाएंगे। दूसरी बात सामाजिक न्याय की राजनीति जो लालू यादव ने शुरू की और उसे घिस दिया क्योंकि उसके आगे वो नहीं निकल सके। दबे कुचले, गरीब-गुरबे बूथ तक पहुंचे, उनमें आत्मसम्मान लौटा, इसके लिए लालू यादव की तारीफ करनी पड़ेगी। लेकिन उन्होंने क्या किया, बिहार को जातीय राजनीति और हिंसा में झोंक कर रख दिया। तेजस्वी ने क्या किया, उसकी आंच उन तक न पहुंचे इसके लिए कई बार जनता से माफी मांगी। और यह एक बहुत बड़ा जेस्चर था। जिसका नतीजा इस चुनाव के नतीजों में भी दिखाई दे रहा है। यह एक बड़ी उपलब्धि मानी जाएगी तेजस्वी यादव जैसे नेता के लिए। अब आने वाले पांच साल में सकारात्मक दायित्व निभाना होगा। हम तेजस्वी को एक जिम्मेदार विपक्ष की भूमिका में देखेंगे।

आलोचनाओं को पीछे छोड़ तेजस्वी ने लड़ी ये लड़ाई

चुनाव से पहले तेजस्वी यादव कोरोना के समय बिहार से लगातार गायब रहे, इसकी बहुत आलोचना हुई। लोग कहते थे कि उन्हें बिहार में रहना चाहिए, जमीन पर नहीं दिखे। इसकी चर्चा होती थी कि आखिर तेजस्वी इतना वाकओवर क्यों दे रहे हैं। तब उनके घर में पारिवारिक कलह भी चल रहा था। उनके भाई तेजप्रताप और उनकी पत्नी ऐश्वर्या के बीच केस चल रहा है। मीसा भारती को लेकर भी चर्चाएं थी कि वो राजनीति में अपनी कद बढ़ाना चाहती हैं। इन सबके बीच तेजस्वी यादव दिल्ली में कैंप करते रहे, कई बार वो बाहर भी गए। एक बार ऑन एयर चार्टर्ड प्लेन में जो उन्होंने पिछला बर्थडे मनाया, उसे लेकर कहा गया देखो- कैसे एक गरीब का बेटा एयरप्लेन में बैठकर बर्थडे केक काट रहा है। इन सब चीजों को पीछे छोड़ते हुए तेजस्वी यादव ने यह लड़ाई लड़ी। उनका बैकग्राउंड, इस लड़ाई से पहले बहुत कमजोर था। अगर हम कहें कि इस जुलाई से पहले या अगस्त तक की भी चर्चा कर लें तो कोई आरजेडी का नामलेवा नहीं था।

नीतीश कुमार के खिलाफ लोगों में था गुस्सा

नीतीश कुमार का आपा खो देना और कहना कि अपने मां-बाप से जाकर पूछों, उस समय क्या होता था, उस समय स्कूलों की हालत क्या होती थी। जबकि हमने देखा कि बिहार में स्कूलों की व्यवस्था और बिल्डिंग इतनी अच्छी है कि सब उसकी तारीफ करते हैं लेकिन पढ़ाई को लेकर हमने हर जगह सुना कि 30 साल के लिए हमारी पीढ़ी बर्बाद हो गई। कई बुजुर्गों ने कहा कि हम अपने पोते-पोतियों को स्कूल भेजकर क्या करेंगे। जो शिक्षामित्र हैं, जो नियोजित शिक्षक रखे गए हैं उनकी योग्यता पर सवाल उठ रहे हैं।नेशनल लेवल के सर्वे होते हैं उनमें 8वीं कक्षा के बच्चे दूसरी कक्षा के सवाल हल नहीं कर पा रहे हैं। खासकर इंग्लिश और मैथेमेटिक्स में, जिसको लेकर बिहार के छात्र बहुत जागरूक रहे हैं। इंजीनियरिंग की परीक्षा में, मेडिकल की परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन किया है, ऐसे में यह सोचने वाली बात है कि ऐसा क्यों हुआ। इसको लेकर नीतीश कुमार के खिलाफ गुस्सा था।

नीतीश की शराबबंदी से लगभग 100 गुना बढ़ गई थाने की कमाई!

-100-

नीतीश कुमार ने शराबबंदी लागू की। नीतीश कुमार ने महागठबंधन की सरकार में रहते हुए अप्रैल 2016 में शराबबंदी लागू की। नीतीश कुमार का बराबर यह कहना होता है कि “वो एक मीटिंग कर रहे थे तब पीछे बैठी हुई एक दीदी ने कहा कि शराब बंद कर दो, तभी मैंने तय किया शराब बंद कर दूंगा।” अगर देखें तो नीतीश कुमार का यह फैसला सामाजिक स्तर पर बहुत अच्छा है। महिलाओं ने इसको हाथोंहाथ लिया लेकिन इम्पलिमेंटेशन का का क्या हुआ। अगर आज देख लें तो साढ़े तीन लाख लोग शुरू से लेकर अबतक जेल गए, जिनमें से कई लोगों को जमानत मिल गई। लेकिन वो प्रक्रिया जारी है। आप उसके लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट बना रहे हैं। जब हमारी छोटी अदालतों में लाखों केस, जिनमें घरेलू विवाद से लेकर जमीन विवाद, मर्डर केस, लूट आदि के मामले लंबित हैं, ऐसे में आप सिर्फ शराबबंदी के केस की सुनवाई करें ये कहां तक उचित है। जेल कम हैं और कैदियों को भेड़-बकरियों की तरह ठूंसा जा रहा है, ये कहां तक उचित है। मांझी जो लौटकर एनडीए में आए हैं, जब वो एनडीए छोड़कर गए थे तब उन्होंने कहा कि यह जो शराबबंदी है, उससे सिर्फ मुसहर, पासवान समाज जैसे निचली जातियों पर असर पड़ रहा है क्योंकि वो सप्लायर बनकर रह गए हैं। और जो नहीं बन पाए वो उसके कारोबार में लग गए। कई नेताओं की मिलीभगत शुरू हो गई। बिहार के जो थाने थे वहां क्या शुरू हुआ, वहां शराब को लेकर एक कैंपेन शुरू हुआ और आज चार साल बाद थाने के जो सारे दारोगा हैं, उनका एक ही लक्ष्य है कि कहां शराब की खेप आई। अंदरखाने की बात करें तो थाने की कमाई लगभग 100 गुना बढ़ गई है।

सुशासन बाबू की छवि पर लौटने का नीतीश के पास मौका

इस बात से आप समझ सकते हैं कि जब पूरा पुलिस महकमा पूरी तरह नीतीश कुमार की शराबबंदी को लागू कराने में जुटा रहेगा तो दूसरे अपराधों का क्या होगा। नीतीश ने कहा कि हम थाने में दो ब्रांच बनाएंगे। एक दारोगा दर्ज मामलों की जांच करेगा तो दूसरा लॉ एंड ऑर्डर देखेगा। लेकिन आज की डेट में ऐसा किसी थाने में लागू हो नहीं हो पाया है। आज आप देखें तो एक ही दारोगा जांच भी करता है और लॉ एंड ऑर्डर भी देख रहा है। वो चुनाव भी कराता है और साथ में इनवेस्टिगेशन भी करता है। मुझे लगता है कि नीतीश कुमार ने अंत भला तो सब भला के नाम पर जो ये आखिरी मौका लिया है उसका इस्तेमाल अपनी सुशासन बाबू वाली छवि वापस पाने के लिए करेंगे।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Powered By : Webinfomax IT Solutions .
EXCLUSIVE