December 5, 2020

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

Bihar:मेरा ‘आखिरी चुनाव’ वाले बयान पर नीतीश कुमार ने दी सफाई, सीएम बनने के दावे पर कहा एनडीए लेगा फैसला

बिहार (Bihar) के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) अपने `आखिरी चुनाव` वाले बयान पर पलट गए हैं. नीतीश कुमार ने कहा कि चुनाव रैली में दिए गए उनके भाषण को गलत समझ लिया गया.

पटना|Bihar Election Results : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने अपने ‘अंतिम चुनाव’ वाले बयान पर सफाई देते हुए कहा है कि वो निकट भविष्य में रिटायर नहीं हो रहे हैं और उनके बयान का गलत मतलब निकाला गया है. न्यूज एजेंसी ANI के मुताबिक, नीतीश कुमार ने कहा, ‘मैंने रिटायरमेंट की बात नहीं की थी, मैं हर चुनावों की अपनी आखिरी रैली में हमेशा एक ही चीज कहता हूं कि ‘अंत भला तो सब भला’. अगर आप मेरे भाषण को सुनेंगे तो सब साफ हो जाएंगे.’

बता दें कि तीसरे चरण के चुनाव से पहले पूर्णिया में जेडीयू के एक उम्मीदवार के लिए की गई अपनी आखिरी रैली में नीतीश कुमार ने भाषण के अंत में कहा था, ‘चुनाव का आखिरी दिन है. इसके बाद चुनाव खत्म हो जाएंगे और यह मेरा आखिरी चुनाव है. अंत भला तो सब भला.’ 

पूरी क्षमता के साथ जनता की सेवा करता रहूंगा’
बिहार विधान सभा चुनाव के नतीजे आने के बाद गुरुवार को पहली प्रेस वार्ता करते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि वे आगे भी इसी समर्पण के साथ काम करते रहेंगे. नीतीश कुमार ने कहा, ‘यदि आप मेरे बारे में पूछना चाहते हैं तो मैं स्पष्ट कर दूं कि मेरी कोई व्यक्तिगत च्वॉइस नहीं है. जब तक मैं काम करने में सक्षम हूं, तब तक पूरे जज्बे से काम करता रहूंगा. यह सब बात आप जानते हैं.’

उनके इस बयान के बाद राष्ट्रीय जनता दल ने इस पर तंज कसा था. लालू यादव के अकाउंट से एक पुराना वीडियो भी शेयर किया था, जिसमें नीतीश कुमार ने बीजेपी को बोला था कि ‘अब इसके बाद किसी भी परिस्थिति में लौटकर जाने का प्रश्न पैदा नहीं होता है. हम रहें या मिट्टी में मिल जाएं, आप लोगों के साथ अब कभी कोई समझौता भविष्य में नहीं होगा. असंभव, अब यह संभव ही नहीं है, नामुमकिन. अब वो चैप्टर खत्म हो चुका क्योंकि उस भरोसे को आपने तोड़ा है.’

हालांकि, इसके बाद 2017 में नीतीश फिर लालू यादव की पार्टी का साथ छोड़ एनडीए के साथ चले गए थे. लालू ने उनका यह वीडियो शेयर करते हुए लिखा था कि ‘डायलॉग सुनिए डायलॉग! कोई इंसान सार्वजनिक जीवन में इतना सिद्धांतहीन, नीति विहीन, नीयत विहीन, नैतिकता विहीन और विचारहीन कैसे हो सकता है?’

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Powered By : Webinfomax IT Solutions .
EXCLUSIVE