September 19, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

Business:फोर्ड ने रतन टाटा को औकात दिखाने की कोशिश की, टाटा मोटर्स ने ऐसे रौंदा कि ताले लग गए

हाइलाइट्स

  • जब इंडिका ब्रांड ने धोखा दिया तो रतन टाटा ने कार बिजनस बेचने का फैसला कर लिया
  • फोर्ड मोटर्स के मालिक ने डेट्रायट बुलाकर रतन टाटा की बेइज्जती की
  • रतन टाटा ने लैंड रोवर और जगुआर खरीद कर फोर्ड मोटर्स को औकात बता दी
फोर्ड मोटर्स ने भारत की दोनों मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स में ताला लगाने का फैसला किया है। साणंद और चेन्नई यूनिट में काम कर रहे 4000 लोगों के चेहरे उदास हैं। दो अरब डॉलर के घाटे से कंपनी की कमर टूट गई है। कोई भी कंपनी ऐसा दिन नहीं देखना चाहती। लेकिन इस घमंडी अमेरिकी कंपनी की हालत इतनी जल्दी इतनी नाजुक हो जाएगी, किसे पता था। हां एक शख्स है . रतन टाटा जिसे फोर्ड ने कभी अपने हेडक्वार्टर में बेइज्जत करने की कोशिश की थी। 
अमरीकी कार कंपनी फोर्ड ने भारत से अपना बोरिया बिस्‍तर समेटने की तैयारी शुरू कर दी है। एक साल में कंपनी का यह पूरा प्रोसेस पूरा हो जाएगा। कंपनी भारत में अपने बिजनेस को सफलता पूवर्क चलाने में पूरी तरह से नाकाम साबित हुई है। ताज्‍जुब की बात तो ये है कि कभी इसी कंपनी के मालिक ने रतन टाटा को कहा था कि वो कार बिजनेस के बारे में कुछ नहीं जानते। फ‍िर क्‍या था समय ने एक बार फि‍र अपना असर दिखाया और फोर्ड की लैंड रोवर और जगुआर जैसी कारों को टाटा मोटर्स ने अपनी कंपनी में शामिल कर लिया। जिनकी सेल में लगातार तेजी देखने को मिल रही है। आइए आपको भी बताते हैं कि फोर्ड और टाटा के बीच हुए इस दिचस्‍प क‍िस्‍से के बारे में।
कहते है ना कि ‘सफलता बदला लेने का सबसे अच्छा तरीका है’। यदि आपको निराशा को दूर करने और अपने लिए एक सफलता का रास्‍ता बनाने के लिए सबक की जरुरत है तो आप इसकी प्रेरणा रतन टाटा से ले सकते हैं, जिन्‍होंने टाटा मोटर्स को नई बुलंदियों पर पहुंचा दिया।

1991 में रतन टाटा ग्रुप के चेयरमैन बने। तब टाटा मोटर्स की पहचान ट्रक बनाने की सबसे बड़ी कंपनी के तौर पर होती थी। 1998 में टाटा मोटर्स ने कार बनाने का फैसला किया। साल के आखिर में टाटा इंडिका लॉंच हो गई। ये पहली मॉडर्न कार थी जिसे किसी भारतीय कंपनी ने डिजाइन किया। वो दिन-रात काम करने लगे। जब कार मार्केट में लॉंच हुई तो उम्मीदें बहुत थीं। पर रतन टाटा का सपना टूटने लगा।

दिल्ली – मुंबई की सड़कों पर बारिश के बीच अगर कोई कार सबसे ज्यादा ब्रेकडाउन हुई तो वो इंडिका थी। 1999 में टाटा ग्रुप ने कार कारोबार समेटने की तैयारी कर ली थी। रतन टाटा निराश थे। सॉल्ट टू स्टील कंपनी का तमगा लेकर घूम रहे रतन टाटा के लिए ये एक बड़ा झटका था।

फोर्ड मोटर्स ने बोली लगाई। उन्होंने टाटा को संदेशा भिजवाया। ऑटो मैन्युफैक्चरिंग के लिए मशहूर डेट्रायट मिशिगन झील के दक्षिण-पूर्व में अमेरिकी इंडस्ट्री का नगीना माना जाता है। यहीं फोर्ड का मुख्यालय है। रतन टाटा और उनकी टीम भारी मन से डेट्रायट पहुंची। लगभग तीन घंटे चली बातचीत में रतन टाटा को शर्मिंदगी झेलनी पड़ी।

प्‍लांट होंगे बंद
ऑटोमोबाइल कंपनी फोर्ड मोटर ने गुरुवार को कहा कि वह “भारी नुकसान” के कारण भारत में कारों का निर्माण बंद कर देगी। फोर्ड इंडिया इस साल के अंत तक गुजरात में अपने साणंद प्‍लांट और अगले साल तक चेन्नई प्‍लांट में अपना ऑरपेशन बंद कर देगी। कंपनी के इंडिया यूनिट हेड अनुराग मेहरोत्रा ने कहा कि यह फैसला इसलिए लिया गया है क्‍योंकि लांग टर्म में प्रोफ‍िट कोई परमानेंट रास्‍ता नहीं दिखाई दे रहा है।

लगातार हो रहा था नुकसान
रॉयटर्स के अनुसार, इस कदम से 4,000 कर्मचारियों के प्रभावित होने की उम्मीद है। 2017 में जनरल मोटर्स और 2020 में हार्ले डेविडसन द्वारा अपना परिचालन बंद करने के बाद फोर्ड भारत से बाहर निकलने वाली तीसरी प्रमुख अमरीकी कार निर्माता कंपनी है। फोर्ड मोटर कंपनी के अध्यक्ष जिम फ़ार्ले के अनुसार भारत में इंवेस्‍टमेंट के बावजूद फोर्ड ने पिछले 10 वर्षों में 2 बिलियन डॉलर [1.47 लाख करोड़ रुपये] से अधिक का ऑपरेटिंग लॉस झेला है। वहीं डिमांड भी अनुमान के मुताबिक कमजोर देखने को मिली।

बिल फोर्ड ने रतन टाटा की बेइज्जती की

फोर्ड मोटर्स के चेयरमैन बिल फोर्ड ने भारत की सबसे बड़ी औद्योगिक हस्ती को औकात दिखाने की कोशिश की। बिल फोर्ड ने रतन टाटा से कहा कि जब पैसेंजर कार बनाने का कोई अनुभव नहीं था तो ये बचकाना हरकत क्यों की। हम आपका कार बिजनस खरीद कर आप पर उपकार ही करेंगे। रतन टाटा बुरी तरह हिल गए। उसी रात उन्होंने कार बिजनस बेचने का फैसला टाल दिया। अगली ही फ्लाइट से वो अपनी टीम के साथ मुंबई लौटे।

रतन टाटा ने अब ठान ली थी। इरादे बुलंद थे। लक्ष्य एक। फोर्ड को सबक सिखाना है। लेकिन चैलेंज बहुत बड़ा था। एक ऐसी ग्लोबल कंपनी जिसका पूरी दुनिया में रुतबा था। कार सेगमेंट की किंग कंपनी फोर्ड मोटर्स।

2008 में टाटा मोटर्स के पास बेस्ट सेलिंग कार्स की एक लंबी लाइन थी। कंपनी पूरी दुनिया पर छाने को बेताब थी। उधर फोर्ड मोटर्स की हालत खराब होती जा रही थी। कार बेचकर मुनाफा कमाना मुश्किल हो रहा था। 2008 में रतन टाटा ने पासा पलटा और बिल फोर्ड को औकात दिखा दी।

टाटा मोटर्स ने फोर्ड की लैंड रोवर और जगुआर ब्रांड को खरीदने का ऑफर दे दिया। तब ये दोनों कारों की बिक्री बेहद खराब थी। फोर्ड को काफी घाटा हो रहा था। फोर्ड की टीम मुंबई आई। बिल फोर्ड को कहना पड़ा – आप हमें बड़ा फेवर कर रहे हैं। अगर चाहते तो रतन टाटा इन दोनों ब्रांड्स को बंद कर सकते थे। लेकिन रतन टाटा ने ऐसा नहीं किया। जब लंदन की फैक्ट्री बंद होने की अफवाह उड़ी तो रतन टाटा ने कामगारों की भावना समझी। यूनिट को पहले की तरह काम करने की आजादी दी।

आज लैंड रोवर और जगुआर दुनिया की बेस्ट सेलिंग कार ब्रांड्स में शुमार है। टाटा मोटर्स दुनिया की बड़ी कार कंपनी है और रतन टाटा सबसे सम्मानित उद्योगपतियों में से एक हैं। एक ऐसा शख्स जिसे बिल फोर्ड की तरह गुरूर नहीं है। टाटा ग्रुप अपने मुनाफे का 66 परसेंट चैरिटी पर खर्च करती है।

रतन टाटा से यही सबक मिलता है – सक्सेस इज द बेस्ट वे ऑफ रीवेंज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.