October 3, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

BWF World Championship 2019: गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली भारतीय शटलर बनीं पीवी सिंधु, स्विट्जरलैंड

भारत की स्टार खिलाड़ी और ओलंपिक मेडलिस्ट पीवी सिंधु (PV Sindhu) ने इतिहास रच दिया है. इसके साथ ही वर्ल्ड बैडमिंटन चैंपियनशिप (World Badminton Championship) 24 वर्षीय सिंधु में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गई हैं. स्टार शटलर पीवी सिंधु ने जापान की नोज़ोमी ओकुहारा को सीधे सेटों में 21-7, 21-7 से हराकर BWF वर्ल्ड चैंपियनशिप 2019 का खिताब जीत लिया है. लगातार दो बार इस प्रतियोगिता के फाइनल में हारने वाली सिंधु का यह पहला वर्ल्ड चैंपियनशिप खिताब है. यह चैम्पियनशिप स्विट्जरर्लैंड के बसेल में में हो रही है. जहां पीवी सिंधु के जीतने के बाद पूरा बैडमिंटन कोर्ट राष्ट्रगान से गूंज उठा.

देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ट्वीट कर बधाई दी है।

इससे पहले मैच की शुरुआत तेज हुई और जापानी प्लेयर ने पहला पॉइंट अपने नाम कर लिया. लेकिन कुछ ही मिनट के अंदर सिंधु ने अपने स्मैशेज के जरिए मैच में अच्छी लीड बना ली. पहला पॉइंट गंवाने वाली सिंधु ने लगातार 8 पॉइंट बनाए और स्कोर 8-1 कर लिया. पहले गेम के ब्रेक तक स्कोर 11-2 से सिंधु के पक्ष में था और ओकुहारा तमाम कोशिशों के बाद भी लाचार दिख रही थीं.

 

ब्रेक के बाद सिंधु ने फिर लगातार 4 पॉइंट बनाए और स्कोर 15-2 हो गया. कोर्ट पर सिंधु की चपलता देखकर लग रहा था जैसे वह ओकुहारा से साल 2017 के फाइनल की हार का बदला लेने की कसम खाकर ही बैडमिंटन कोर्ट पर उतरी थीं. इस स्कोर के बाद सिंधु ने अगले चंद मिनट्स में पहला सेट 21-7 से अपने नाम कर लिया.

 

इसके बाद दूसरा सेट शुरू हुआ. इस दौरान बात कंफर्म हो गई कि सिंधु आज जीतने नहीं बल्कि कुछ मिनटों में मैच निपटाने उतरीं हैं. पॉइंट्स ऐसे बरस रहे थे जैसे सिंधु के खिलाफ वर्ल्ड नंबर-4 ओकुहारा नहीं बल्कि कोई नौसिखिया खेल रही हो. सिंधु स्मैश जमाने के साथ अपनी हाइट का भी पूरा फायदा उठा रही थीं, ओकुहारा कई बार शटल तक पहुंच ही नहीं पाईं.

 

दूसरा सेट 2-0 से शुरू हुआ और फिर स्कोर 5-2 होने के बाद ब्रेक तक सिंधु 11-4 से आगे निकल चुकी थीं. ओकुहारा को पता चल चुका था कि आज उनका दिन नहीं है. उनकी तमाम कोशिशें सिंधु की चपलता और टेक्नीक के आगे बेकार हो रही थीं. जल्दी ही स्कोर 14-4 हुआ और टीवी कैमरे सिंधु के कोच पुलेला गोपीचंद की तरफ मुड़ गए. गोपी की मुस्कान लगातार चौड़ी ही होती जा रही थी. अगले 6 मिनट्स में यह सेट भी 21-7 से सिंधु के नाम रहा और दुनिया को नई वर्ल्ड चैंपियन मिल गई.

बता दें 2 साल पहले ग्लासगो में हुए इसी टूर्नामेंट के फाइनल में ओकुहारा ने 110 मिनट तक चले इपिक मैच में सिंधु को हराया था और आज सिंधु ने महज 38 मिनट में उन्हें चित कर अपना बदला ले लिया. यह सिंधु का पांचवां वर्ल्ड चैंपियनशिप मेडल है. इस मामले में उन्होंने पूर्व ओलंपिक और वर्ल्ड चैंपियन चाइनीज झैंग निंग की बराबरी कर ली. कोई भी बैडमिंटन प्लेयर वर्ल्ड चैंपियनशिप में इन दोनों से ज्यादा मेडल नहीं जीत पाया है. सिंधु ने इससे पहले वर्ल्ड चैंपियनशिप में 2 ब्रॉन्ज़ और 2 सिल्वर मेडल अपने नाम किए थे.

इसके अलावा पीवी सिंधु 2016 ओलंपिक में सिल्वर मेडल, गोल्ड कोस्ट 2018 कॉमनवेल्थ गेम्स में सिल्वर, 2018 एशियन गेम्स, जकार्ता में सिल्वर और 2018 BWF वर्ल्ड टूर फाइनल्स में गोल्ड मेडल जीत चुकी हैं.

ये भी पढ़ें 👇

जानिए 21 दिनों में छह स्वर्ण पदक जीतने वाली ‘ढिंग एक्सप्रेस’ हिमा दास की कहानी

कैसे पढ़ाई के लिए मोटिवेटेड रहें (Get Motivated to Study)

टाइटेनिक का अंत : राजनीतिक व्यंग्य

‘चीनी युवा’ रबींद्रनाथ टैगोर के दीवाने क्यों थे?

भारत का भला कौन चाहता है?

आर्टिफिशियल इंटेलीजेंसःक्या है इसके फायदे और नुक्सान

3 thoughts on “BWF World Championship 2019: गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली भारतीय शटलर बनीं पीवी सिंधु, स्विट्जरलैंड

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.