Category: अखण्ड भारत

गणतंत्र या भ्रष्टतंत्र

सर्वप्रथम गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं! सवेरे झंडा-रोहण देखने पास के सरकारी स्कूल चला गया था! कोई नेताजी आये हुए थे! भाषण सुना, लड्डू खाए और परेड देखा! भाषण सुनते समय कक्षा […]

जातिगत संघर्ष: अतुल्य भारत पर एक दाग;

प्राचीन वैदिक समाज को श्रम विभाजन तथा सामाजिक जिम्मेदारियों के तहत चार वर्णों में विभाजित किया गया था। कालांतर में इनसे लाखों जातियां बन गईं। प्राचीन वर्ण व्यवस्था का सही या गलत […]

कैसे गुलाम बना था भारत;

वास्कोडीगामा से मीर जाफर तक, आज से लगभग 400 साल पहले, वास्कोडीगामा आया था हिंदुस्तान ! वास्कोडीगामा ने भारत की कोई खोज नहीं की, हिंदुस्तान की भी कोई खोज नहीं की, हिंदुस्तान […]

क्या डॉलर के बिना नहीं चल पाएगी भारत की अर्थव्यवस्था;

  भारत की मुद्रा रुपया है, लेकिन अर्थव्यवस्था के लिए ज़्यादा डॉलर का होना बहुत ज़रूरी है. वैश्विक अर्थव्यवस्था में किस देश की आर्थिक सेहत सबसे मज़बूत है, इसका निर्धारण इससे भी […]

आजादी के इतने बर्षो बाद भी क्यों लगते हैं, “हमें चाहिए आजादी” के नारे???

आजादी के 72 बरस पूरे हों गये और इस दौर में भी कोई ये कहे , हमें चाहिये आजादी । या फिर कोई पूछे, कितनी है आजादी। या फिर कानून का राज […]

जाति और धर्म की क्या आवश्यकता है;

जाति धर्म – इन दिनों देशभर में जाति धर्म का मुद्दा उफान पर है । खैर चुनावों से पहले हमेशा ही ये माहौल देखने को मिलता ही है । क्योंकि राजनीतिक पार्टियां […]