Category: इतिहास

गोरखपुर में अब होगी सेना भर्ती रैली

गोरखपुर और आसपास के लोगों के लिए सेना में भर्ती के लिए सुनहरा अवसर है। मई और जून के बीच गोरखपुर में सेना भर्ती शुरू होने जा रही है। यहां लम्बे समय […]

बोडो समझौता शांति, सद्भाव और एकजुटता की नई सुबह लेकर आएगा: पीएम मोदी

नई दिल्ली |बोडो समूहों के साथ सोमवार को हुए समझौते की सराहना करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि यह समझौता शांति, सद्भाव और एकजुटता की नई सुबह लेकर आएगा। […]

एअर इंडिया में 100 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने की निविदा जारी,जानिए- हवा में उड़ने वाले महाराजा के डूबने की पूरी कहानी

सरकार द्वारा एअर इंडिया के निजीकरण की सोमवार को निविदा जारी करने के बाद कंपनी के विभिन्न श्रमिक संगठन नई दिल्ली में बैठक करेंगे। एअर इंडिया के करीब दर्जनभर मान्यता प्राप्त श्रमिक […]

हमारे संविधान के केंद्र में सामाजिक हित तो हैं लेकिन, उसके सबसे बड़े पैरोकार गांधी नहीं हैं, जानिए

ग्राम स्वराज का सपना देखने वाले गांधी ने ब्रिटिश संसद को वेश्या तक कह डाला था. पर नेहरू, गांधी का प्रजातंत्र और यूरोप का लोकतंत्र दोनों नहीं चाहते थे।   सच के […]

Republic Day 2020 : राजपथ पर राष्ट्रपति ने फहराया झंडा, परेड में 21 तोपों की दी गई सलामी

नई दिल्ली|आज गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में दिल्ली के राजपथ पर खास उत्सव का आयोजन किया गया है. इस आयोजन मंद देश की बढ़ती हुई सैन्य ताकत, सांस्कृतिक रूप से मूल्यवान विरासत […]

रिपोर्ट : भारत में सौ में केवल 24 हैं कामकाजी महिलाएं

जेंडर गैप रिपोर्ट 2020 के तहत भारत में 82% पुरुषों की तुलना में केवल 24% महिलाएं ही कामकाजी हैं। केवल 14% महिलाएं नेतृत्वकारी भूमिकाओं में हैं और भारत का इस इंडेक्स में […]

सुल्तानों-बादशाहों को पूर्वज बताने से ‘अपमानित’ वल्दियत कैसे बदलेगी?

सुलतानों-बादशाहों को पूर्वज बताने से ‘अपमानित’ वल्दियत कैसे बदलेगी? दिल्ली में सात सौ साल की सुलतानों-बादशाहों की हुकूमत के दौरान नामालूम किस जलालत में उनके किस पुरखे ने, औरत ने अपना नाम […]

चुनाव आयोग से बोला सुप्रीम कोर्ट, राजनीति में अपराध के वर्चस्व को खत्म करने को तैयार करें एक फ्रेमवर्क

नई दिल्ली|सुप्रीम कोर्ट ने राजनीति के अपराधीकरण को समाप्त करने को लेकर फ्रेमवर्क तैयार करने का चुनाव आयोग को शुक्रवार को निर्देश दिया है। न्यायमूर्ति आर एफ नरीमन और न्यायमूर्ति रवीन्द्र भट […]

वैश्विक लोकतंत्र सूचकांक में 10 पायदान लुढ़का भारत,चुनाव प्रक्रिया और बहुलतवाद मुख्य वजह

लोकतंत्र सूचकांक की वैश्विक रैंकिंग में 10 स्थान गिरकर अभी 51वें पायदान पर है। लोकतांत्रिक सूची में यह गिरावट देश में नागरिक स्वतंत्रता में कमी के कारण आई है। यह सूचकांक पांच […]

जन्म दिन: क्यों सुभाष चंद्र बोस की मौत का दावा आधुनिक भारत के सबसे बड़े रहस्यों में से एक है

कहा जाता है कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत 1945 में ताइवान में हुए विमान हादसे में हो गई थी. लेकिन इस बात पर संदेह करने के कारण मौजूद हैं.   […]