Category: राजनीतिक व्यंग

प्रेम कहानी:आखिर क्या थी जवाहरलाल नेहरू और एडविना माउंटबेटन, पद्मजा औऱ कमला नेहरू के रिश्ते की सच्चाई?जिनके लिए जवाहरलाल नेहरू ने अपना सब कुछ दांव पर लगा दिया था!

13 नवंबर 1962 को अमेरिका के भारत स्थित राजदूत जॉन कैनेथ गालब्रेथ ने अमेरिकी राष्ट्रपति जॉन एफ कैनेडी को एक पत्र लिखा. भारत और चीन के बीच युद्ध के बादल मंडरा रहे […]

राहुल सांकृत्यायन का प्रसिद्ध लेख: दिमागी गुलामी

राहुल सांकृत्यायन✓ राहुल सांकृत्यायन सच्चे अर्थों में जनता के लेखक थे। वह आज जैसे कथित प्रगतिशील लेखकों सरीखे नहीं थे जो जनता के जीवन और संघर्षों से अलग–थलग अपने–अपने नेह–नीड़ों में बैठे […]

बिना हेलमेट स्कूटर चलाते गडकरी की तस्वीर हुई वायरल, पब्लिक ने पूछा ये सवाल

नई दिल्ली: संशोधित मोटर व्हीलकर एक्ट लागू होने के बाद अब यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों की खैर नहीं है। क्योंकि इस एक्ट को पहले की तुलना में और कड़ा कर दिया […]

झूठ और भ्रष्टाचार की बुनियाद पर खड़ा लोकतंत्र !

हमारे देश के नेता भारत को विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र होने की दुहाई देते रहते हैं। राजनीतिक दल इस लोकतंत्र के आधार स्तंभ हैं। चुने गए नेता बहुमत के आधार पर […]

दिन दूना रात चौगुना तरक्की करते भारतीय नेता…

माना कि मोदी जी ईमानदार हैं लेकिन पार्टी के अन्य नेताओं का क्या. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त वर्ष 2016 में भाजपा की […]

रैनकोट पहन कर नहाने की कला भी राजनीतिक में है..

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विरोधियों के हमले झेलने में शीर्ष पर रहे हैं. इस मामले में देश का कोई भी नेता उनकी बराबरी पर नहीं हो सकता. गुजरात के मुख्यमंत्री होने से लेकर […]

भाजपा सरकार का अल्पसंख्यकों को तोहफा, पूर्वी भारत का सबसे बड़ा हज हाउस बनकर तैयार

Ranchi: Eid के अवसर पर अल्पसंख्यक समुदाय को भाजपा की तरफ से तोहफा मिल चुका है। झारखण्ड के कडरू में पूर्वी भारत का सबसे बड़ा हज हाउस बनकर तैयार है। मंगलवार को […]

गरीब नेताओं का देश है हमारा ?

गरीब नेताओं का देश भारत😂 भारत दावा कर रहा है कि वह आर्थिक #महाशक्ति है, लेकिन लगता तो यह है कि वह गरीबी का महाद्वीप है। भारत एक गरीब देश है यह […]

क्या हैं राजनीति के गिरते स्तर के कारण?

‘राज करने’ अथवा राज चलाने सम्बन्धी नीति को ही राजनीति कहा जाता है। लिहाज़ा स्पष्ट है कि राज करने या चलाने जैसी अति संवेदनशील एवं गम्भीर जिम्मेदारी को अंजाम देने के लिए […]

अमेरिकन गोबर , मानसिक गुलामी का परिणाम

कहानी पढ़िए और फिर आत्म मनन कीजिए, कार्य में परिणित….? अमेरिकन गोबर के पैकेट:- अमेरिकन गोबर दो रुपये, अमेरिकन गोबर दो रुपये की आवाज़ सुनकर कर्नाट प्लेस की भीड़ ऊधर ही दौड़ […]