Category: संपादकीय

योगी के माइग्रेशन कमीशन की सच्चाई, प्रवासी मजदूर फिर प्रवास के लिए मजबूर

योगी के माइग्रेशन कमीशन की सच्चाई, प्रवासी मजदूर फिर प्रवास के लिए मजबूर योगी आदित्यनाथ ने लॉकडाउन के दौरान कहा था कि हम प्रवासी मजदूर को उत्तर प्रदेश में रोजगार देंगे। माइग्रेशन […]

बच्चों की स्कूली शिक्षा : राज्य की भूमिका और मां-बाप

बच्चों की स्कूली शिक्षा : राज्य की भूमिका और मां-बाप भारत में जो शिक्षा नीति अपनाई गई उसके क्रियान्वयन में जो प्रणाली अपनायी गई, उसके कर्ता-धर्ता, पुरोधा तमाम किंतु-परंतु और आशंकाओं का […]

युवाओं के सामने आस्था का संकट है, सब बड़े उनके सामने नंगे हैं, वे किसके पदचिन्हों पर चलें!

नई पीढ़ी में बढ़ती दिशाहीनता, बेकारी और हताशा पर ‘आवारा भीड़ के खतरे’ शीर्षक के साथ यह लेख प्रसिद्ध व्यंग्यकार हरिशंकर परसाई ने साल 1991 में लिखा था एक अंतरंग गोष्ठी सी […]

पांच अच्छी बातें जो भारतीय समाज को कोरोना वायरस ने सिखाई हैं;जानिए

पांच अच्छी बातें जो भारतीय समाज को कोरोना वायरस ने सिखाई हैं, कोरोना वायरस के तमाम नकारात्मक प्रभावों के बीच कुछ छोटे ही सही लेकिन ऐसे सकारात्मक बदलाव भी हैं जिनकी भारतीय […]

संपादकीय:पीएम केयर्स फंड और पारदर्शिता का सवाल

पीएम केयर्स फंड और पारदर्शिता का सवाल पीएम केयर्स पब्लिक अथॉरिटी है कि नहीं विवादास्पद मुद्दा बन गया है क्योंकि इसके फंड में रेलवे जैसी सरकारी कंपनियों के द्वारा पैसा दिया गया […]

संपादकीय: आओ चलो खेलें परशुराम परशुराम

सवाल उठता है कि उत्तर भारत की राजनीति को बदल देने वाले आंबेडकर और लोहिया के आंदोलन के दावेदार आज क्यों परशुराम की मूर्ति लगाने की होड़ कर रहे हैं।   ( […]

संपादकीय: मक़्तलों में तब्दील होते हिन्दी न्यूज़ चैनल!

मक़्तलों में तब्दील होते हिन्दी न्यूज़ चैनल! यह टीवी अब हमें सशरीर खा रहा है। पहले दिमाग में ज़हर भरा गया। तर्क की बेरहमी से हत्या की गयी। विचार को चिल्लाहटों से […]

Bengaluru Riots: हिंसा भड़काने वाले से ज्यादा बुरे हिंसा को अंजाम देने वाले हैं!

Bengaluru Riots: हिंसा भड़काने वाले से ज्यादा बुरे हिंसा को अंजाम देने वाले हैं! आजादी के 75 साल बाद बेंगलुरु (Bengaluru) में लोगों का पैगंबर मोहम्मद (Prophet Mohammad) को लेकर लिखी गयी […]

इसरो जासूसी कांड: बिना कसूर 2 माह जेल, कहा गया गद्दार, करियर तबाह…वैज्ञानिक नांबी नारायणन को मिले 1.30 करोड़ का मुआवजा

नई दिल्ली| केरल सरकार ने मंगलवार को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO)के पूर्व वैज्ञानिक नांबी नारायणन को ढाई दशक पुराने जासूसी मामले के निपटारे के लिए 1.30 करोड़ रुपये का अतिरिक्त मुआवजा […]

नई शिक्षा नीति: लोक-लुभावन शब्दों के मायने और मजबूरी

नई शिक्षा नीति: लोक-लुभावन शब्दों के मायने और मजबूरी शिक्षा के कई जानकारों का मानना है कि नई शिक्षा नीति की पूरी की पूरी अवधारणा, प्रबंधन तथा वित्तीय पहलूओं की पड़ताल करें […]