Category: Castism in India

बिहार चुनाव 2020 में नया क्या है? वो सारी बातें जो देश जानना चाहता है

बिहार में विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) के लिए माथापच्चियां तो खूब हो रही हैं लेकिन इसमें सबसे अधिक चर्चा है जातिवाद (Casteism) की, वोटरों की संख्या को ध्यान में रखकर ही […]

Castiziam:हमें सम्मान से जीने नहीं देती है ये जाति!

हमें सम्मान से जीने नहीं देती है ये जाति! इस दमन-चक्र को रोकने के लिए लोकतांत्रिक दायरे में रहकर ही कोई राह निकालनी जरूरी है। विचार-विमर्श जरूरी है। इस पूरे परिदृश्य के […]

दूषित मानसिकता और पुरुषसत्ता की दोहरी मार झेलती दलित स्त्री

दूषित मानसिकता और पुरुषसत्ता की दोहरी मार झेलती है दलित स्त्री दलित स्त्रियों का आत्मसंघर्ष बहुत गहरा है। वह निरंतर दो स्तरों पर चलता है। राजस्थान की भंवरी बाई और बसमतिया, पश्चिम […]

सच के साथ:ये नेता आख़िर महिलाओं को समझते क्या हैं!

ये नेता आख़िर महिलाओं को समझते क्या हैं! हाथरस मामले में आए दिन बीजेपी मंत्री और नेता अपनी बेतुकी बातों से महिलाओं की अस्मिता को ठेस पहुंचा रहे हैं। हालांकि ये कोई […]

खैरलांजी से हाथरस- दलित महिलाओं के बलात्कार की दोहराई जाती कहानी

खैरलांजी से हाथरस- दलित महिलाओं के बलात्कार की दोहराई जाती कहानी भारत जाति के संदर्भ को नजरअंदाज नहीं कर सकता है और हाथरस, बलरामपुर, खैरलांजी या इसी तरह के हजारों अन्य हमलों […]

प्रदेश सरकार ने जाति प्रमाणपत्र फर्जी पाए जाने के आधार पर संतकबीरनगर में कार्यरत उपजिलाधिकारी (परिवीक्षाधीन) श्याम बाबू की नियुक्ति रद्द कर दी है।

लखनऊ/प्रयागराज। प्रदेश सरकार ने जाति प्रमाणपत्र फर्जी पाए जाने के आधार पर संतकबीरनगर में कार्यरत उपजिलाधिकारी (परिवीक्षाधीन) श्याम बाबू की नियुक्ति रद्द कर दी है। नियुक्ति विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि […]

उत्तर प्रदेश में ‘परशुराम पॉलिटिक्स’ क्या गुल खिलाएगी?

उत्तर प्रदेश में ‘परशुराम पॉलिटिक्स’ क्या गुल खिलाएगी? उत्तर प्रदेश के सभी सियासी दल जातिगत वोटबैंक की राजनीति कर रहे हैं। और ब्राह्मणों की आस्था के प्रतीक परशुराम के जरिए सियासी वैतरणी […]

‘आज़ाद समाज पार्टी’ : महज़ एक सियासी दांव या नया विकल्प?

‘आज़ाद समाज पार्टी’ : महज़ एक सियासी दांव या नया विकल्प?     भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आज़ाद ने ‘आज़ाद समाज पार्टी’ के नाम से अपनी नई राजनीतिक पार्टी बनाई है। चंद्रशेखर […]

दंगों के बाद दिल्लीः पड़ी हैं 20 से ज्यादा लाशें… दिल कंपा रहा जीटीबी हॉस्पिटल का शव गृह

नॉर्थ ईस्ट दिल्ली में लोगों ने पहले दंगों की वजह से अपनों को खोया। अपने उन्हीं अपनों का शव लेने का इंतजार उनके जख्म पर नमक छिड़कने का काम कर रहा है। […]

आखिर किसने और कब लिखी थी मनुस्मृति, जानिए इस रहस्य को…

220+10,000= 10,220 ईसा पूर्व मनुस्मृति लिखी गई होगी अर्थात आज से 12,234 वर्ष पूर्व मनुस्मृति उपलब्ध थी। किसने रची मनु स्मृति : धर्मशास्त्रीय ग्रंथकारों के अतिरिक्त शंकराचार्य, शबरस्वामी जैसे दार्शनिक भी प्रमाणरूपेण […]