Category: Motivesnol

बिना विनय के विद्या प्राप्त करने का कोई औचित्य नहीं है;यदि सभ्य नागरिक नहीं बन सके तो ऊंचे नंबरों की अंक तालिकाएं व्यर्थ हैं!

भले ही अंग्रेज हमें ‘स़ॉरी’ कहना सिखा गए हों, लेकिन हमने उसके भाव को आज भी समझने की कोशिश नहीं की है, केवल शब्द को रट लिया है। उसकी मूल चेतना तक […]

पक्षी V का आकार बनाकर क्यों उड़ते हैं, कलाकारी नहीं इसके पीछे साइंस है साइंस

पक्षी V का आकार बनाकर क्यों  उड़ते हैं, कलाकारी नहीं इसके पीछे साइंस है साइंस इंजीनियरिंग में एक शब्द खूब सुनने को मिलता है – बायोमिमेटिक्स. बायोमिमेटिक्स शब्द बायो और मिमिक्री से बना […]

कंप्यूटर से भी तेज चलता था बिहार के गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का दिमाग, नासा ने भी माना लोहा

नासा ने जिसके ज्ञान का इस्तेमाल कर अंतरिक्ष के अपने मिशन को आगे बढ़ाया, वह विश्व प्रसिद्ध गणितज्ञ इन दिनों पटना में किराये के अपने फ्लैट में जिंदगी गुजार रहे हैं. साठ […]

जीवन की मूलभूत आवश्यकता: टाल्सटाय के विचार

इस समस्या का सन्तोषजनक हल करने का एकमात्र मार्ग यही है कि हम मनुष्य की मूलभूत जीवन-आवश्यकताओं पर विचार करें और उनको अपनी कार्य-पद्धति में अनिवार्य रूप से स्थान दें। इस दृष्टि […]

अहंकार अपने ही विनाश का एक कारण होता है••

दर्पण जल और र्स्फाटक में प्रकाशित सूर्य का प्रतिबिम्ब सभी ने देखा है। इस सत्य से भी कोई अनभिज्ञ नहीं है कि सूर्य के प्रतिबिम्ब का अस्तित्व सूर्य का कारण ही दिखलाई […]

राजस्थान पुष्कर मेला / 14 करोड़ रुपए का भीमकाय भैंसा; 13 सौ किलो वजन, काजू-बादाम और मक्खन खाता है..

राजस्थान के पुष्कर अंतरराष्ट्रीय पशु मेले में विभिन्न प्रजाति के करीब 5 हजार से अधिक पशु पहुंचे हैं, इनमें में मुर्रा नस्ल का भैंसा भीम भी है। इस भैंसे के रखरखाव और […]

प्राइमरी टीचर से आईएएस बनीं सीरत जैसा जीवट हर किसी के वश का नहीं

रोजाना तीस किलो मीटर बस से, फिर आठ किलो मीटर पैदल सफर तय कर तमाम विपरीत परिस्थितियों में प्राइमरी टीचर से आईएएस बन चुकीं सीरत फ़ातिमा जैसा जीवट हर किसी के वश […]

आनंद महिंद्रा के हौसले ने शिल्पा को कामयाबी की बुलंदी तक पहुंचाया

“एक दिन अचानक पति के लापता हो जाने से लाचार मंगलौर (कर्नाटक) की शिल्पा ने संकल्प लिया कि अब वह घर की गाड़ी खुद खीचेंगी। कर्ज जुटाया, महिंद्रा ग्रुप के सीईओ आनंद […]

एशिया की वह पहली महिला, जो पीडब्ल्यूडी विभाग में बनीं चीफ इंजीनियर!

भारत में इंजीनियरिंग का क्षेत्र आज भी पुरुष-प्रधान है। उच्च शिक्षा पर एक अखिल भारतीय सर्वेक्षण के अनुसार, आर्ट्स और साइंस के बाद इंजीनियरिंग में सबसे ज़्यादा दाखिले होते हैं, जिनमें सिर्फ़ […]

15 की उम्र में शादी, 18 में विधवा : कहानी भारत की पहली महिला इंजीनियर की!

एक मध्यम वर्गीय तेलगु परिवार में जन्मी ए ललिता की शादी तब कर दी गई थीं जब वह मात्र 15 वर्ष की थीं। 18 साल की आयु में ये एक बच्ची की […]