June 27, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

Farmer Protest:जींद की कंडेला खाप पंचायत कल देगी किसान आंदोलन को ताकत

जींद: जिले के गांव कंडेला स्थित खेल स्टेडियम में 3 फरवरी को 11 बजे होने वाली प्रदेश स्तरीय किसान महापंचायत ऐतिहासिक होगी।

नई दिल्ली|दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन को लेकर अब जींद की कंडेला खाप के ऐतिहासिक चबूतरे पर बुधवार को रणनीति बनेगी जिसमें भारतीय किसान यूनियन (भाकियू ) के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत भी शिरकत करेंगे। इस बैठक में करीब 50 खापों के लोग भी भाग लेंगे और दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन को नई धार देंगे।

बता दें कि कंडेला वर्ष 2002 में बिजली बिल माफी आंदोलन को लेकर सुर्खियों में रहा है। गत 26 जनवरी को दिल्ली के लाल किले पर किसान यूनियन और सिखों के प्रतीक का झंडा लगाने पर विफल होने लगे किसान आंदोलन को पुनर्जीवित करने में कंडेला गांव ने ही गत जनवरी रात जींद-चंडीगढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग जाम कर आंदोलन दोबारा खड़ा करने में अहम भूमिका निभाई थी। उसके बाद अगले दिन 27 जनवरी को प्रदेश के लगभग सभी जगहों पर खाप पंचायतों ने दिल्ली जाने का फैसला किया और हरियाणा से बहुत लोग दिल्ली भी पहुंचे।

 

कंडेला खाप ने एक बार फिर आंदोलन को ताकत देने के लिए 03 फरवरी को राकेश टिकैत को खाप के ऐतिहासिक चबूतरे पर पंचायत में बुलाया है। इसके अलावा इस पंचायत में प्रदेश की करीब 50 खापों के लोग भी पहुंचेंगे। माना जा रहा है कि इस दिन आंदोलन को लेकर बड़ा फैसला भी लिया जा सकता है।

उल्लेखनीय है कि कंडेला खाप प्रदेश ही नहीं बल्कि देश की सबसे चर्चित खाप रही है। वर्ष 2002 में बिजली बिलों को लेकर आंदोलन चला था और उसका केंद्र बिंदु कंडेला ही रहा था। लंबे समय तक चला यह आंदोलन काफी चर्चित रहा था। इसमें किसानों ने कई अधिकारियों को बंधक भी बना लिया था और करीब दो माह तक जींद-चंडीगढ़ मार्ग जाम रखा था। किसानों की अनेकों बार पुलिस से झड़प हुईं। बाद में इस आंदोलन में हुई गोलीबारी में नौ किसानों की मौत हो गई थी और काफी किसान घायल हो गए थे। उस समय प्रदेश में ओम प्रकाश चौटाला मुख्यमंत्री थे। चौटाला 2005 तक मुख्यमंत्री रहे और वह उस समय तक कभी भी इस मार्ग से नहीं आए।

करीब 16 साल बाद 2018 में कंडेला में ओम प्रकाश चौटाला के पोते दुष्यंत चौटाला को आने दिया था। कंडेला खाप अपने कड़े फैसलों के लिए जानी जाती रही है। प्रदेश में आज तक भी जितने आंदोलन हुए उन सभी मे कंडेला खाप की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। अब एक बार फिर तीन कृषि कानूनों को लेकर दिल्ली में चल रहे आंदोलन को ताकत देने के लिए कंडेला में महत्वपूर्ण पंचायत का आयोजन किया गया है।

कंडेला खाप के प्रधान टेक राम कंडेला ने बताया कि बुधवार को कंडेला में आयोजित पंचायत में किसान नेता राकेश टिकैत पहुंचेंगे। इस पंचायत में प्रदेश की करीब 50 खापों के प्रतिनिधि शिरकत करेंगे। इस पंचायत में किसान आंदोलन को लेकर आगामी रणनीति पर विचार किया जाएगा।

प्रदेशाध्यक्ष रतनमान ने बिल्लू खांडा को प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष के पद पर किया नामित

भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश प्रवक्ता छज्जू राम कंडेला ने इस दौरान बताया कि भाकियू प्रदेशाध्यक्ष रतनमान गत माह से एक भयंकर बीमारी से जूझ रहे हैं। जिसके चलते उनका एक निजी अस्पताल में उपचार चल रहा है। इस कारण भारतीय किसान यूनियन के प्रदेश अध्यक्ष रतनमान ने उपाध्यक्ष बिजेंद्र उर्फ बिल्लू खांडा को कार्यकारी प्रदेशाध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंपी है ताकि किसान आंदोलन बदस्तूर जारी रहे। उन्होंने कहा कि बिजेन्द्र उर्फ बिल्लू खांडा राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत व राष्ट्रीय महासचिव युद्धवीर सिंह के कुशल नेतृत्व में किसान आंदोलन व उनके निर्देशानुसार कार्य करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.