September 29, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

Noida Twin Tower: 3700 किलो बारूद और 9 सेकेंड में 32 मंजिला इमारत ध्वस्त; प्रदूषण बड़ी चुनौती… जानें ब्लास्ट के बाद क्या-क्या होगा?

नोएडा 28 अगस्त |नोएडा के सेक्टर-93ए में बने 103 मीटर ऊंचे ट्विन टावर नेस्तानाबूत हो गए हैं। महज 9-12 सेकेंड में कुतुब मीनार से भी ऊंची इमारतें स्वाहा हो गईं। कुतुब मीनार से भी ऊंची इमारत के ढहने से आसमान में धूल का गुबार दिखाई दिया। टावर के ध्वस्तीकरण के लिए करीब 9640 छेद में 3700 किलो विस्फोटक का प्रयोग किया गया था। मौके पर पुलिस से लेकर एनडीआरएफ, एंबुलेंस, फायर ब्रिगेड की टीमें मौजूद हैं। वहीं वायु प्रदूषण को रोकने के लिए पानी के टैंकर मौजूद हैं जिनसे पानी का छिड़काव किया जा रहा है। एंटी स्मॉग गन भी लगाई गई हैं। नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे पर वाहनों की आवाजाही बंद है। इसे करीब तीन बजे खोला गया।

 

लोगों को पहनना पड़ेगा मास्क

 

वहीं बारिश पड़ती है तो यह जल्द सामन्य हो सकती है. लोगों को इससे बचने के लिए मास्क पहनने की जरूरत होगी, क्यूंकि यह गंभीर होंगे. सीमेंट के छोटे छोटे कण जो दिखते नहीं है वह इंसान को नुकसान पहुंचा सकते हैं और लंग्स में जाकर बाद में दिक्कतें खड़ी कर सकते हैं. उन्होंने आगे कहा, ध्वस्त करने के बाद इमारत का जो मलबा है उसको ढोने में भी वक्त लगेगा और ट्रकों के माध्यम से जब ले जाएगा उसमें भी यह देखना होगा की ट्रकों को सही तरिके से ढक कर ले जाया जा रहा है या नहीं.

 

आठ सेकेंड में धाराशायी हुए ट्विन टावर

ट्विन टावर मात्र आठ सेकेंड में ब्लास्ट के साथ धाराशायी हो गए।  चारों तरफ दूर तक धूल का गुबार उठा हुआ है। कुछ भी दिखाई नहीं दे रहा है।

राज्य में अवैध काम बर्दाश्त नहीं किया जाएगा: अपर मुख्य सचिव गृह

अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने कहा कि इन अवैध ट्विन टावरों को सुप्रीम कोर्ट द्वारा सख्त कार्रवाई में ध्वस्त करने का आदेश दिया गया था। यह साबित करता है कि देश में कानून का राज है।  इससे यह संदेश जाएगा कि राज्य में अवैध काम बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

हाउसिंग सोसाइटियों को नहीं हुआ कोई नुकसान

नोएडा की सीईओ रितु महेश्वरी ने कहा, ‘मोटे तौर पर, आस-पास की हाउसिंग सोसाइटियों को कोई नुकसान नहीं हुआ है। अभी कुछ मलबा ही सड़क की तरफ आया है। हमें एक घंटे में स्थिति को लेकर बेहतर अंदाजा मिल जाएगा। सफाई की जा रही है। क्षेत्र में गैस और बिजली की आपूर्ति बहाल कर दी जाएगी। शाम 6.30 बजे के बाद लोगों को पड़ोस की सोसायटियों में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी।’

एक्सप्रेसवे पर वाहनों की आवाजाही शुरू

ट्विन ट्वर के ध्वस्तीकरण के लिए नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे को बंद किया गया था। अब इसे वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया गया है।

 

प्रदूषण कम करने की कोशिश जारी

पलक झपकते ही ट्विन टावर नेस्तानाबूत हो गए। इससे आसमान में धूल का गुबार फैल गया। अब धूल को कम करने का काम किया जा रहा है। इसके लिए मौके पर एंटी स्मॉग गन्स, पानी के टैंकर मौजूद हैं।

 

कोई हताहत नहीं

ट्विन टावर गिराने से किसी के हताहत होने की खबर नहीं है। इसके ध्वस्तीकरण में सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सभी कदम उठाए गए थे जो फिट बैठे। आसमान तक धूल का गुबार देखा गया।

 

आसमान में दिखा धुएं का गुबार

सालों चली कानूनी लड़ाई के बाद ट्विन टावर एक धमाके के साथ नेस्तानाबूत हो गए। एक टावर की ऊंचाई कुतुब मीनार से भी ज्यादा थी जो अब मलबे में तब्दील हो चुकी है। टावर के ढहते ही आसमान में धुएं का बड़ा सा गुबार दिखाई दिया। माना जा रहा है कि दो-तीन घंटे तक हवा में धूल का गुबार रहेगा। हेल्थ इमरजेंसी को लेकर तीन अस्पताल अलर्ट मोड में हैं।

ताश के पत्तों की तरह बिखर गया ट्विन टावर

एक धमाका होते ही नोएडा के ट्विन टावर ताश के पत्तों की तरह बिखर गए। इसे गिराने के लिए 3,700 किलोग्राम से ज्यादा विस्फोटकों का उपयोग किया गया था।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.