October 3, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

PM मोदी के साथ राजस्थान की पायल को मिला चेंज मेकर , नोवेल विजेता कैलाश सत्यार्थी बोले- हमें गर्व

अमेरिका में बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन की ओर से गोलकीपर ग्लोबल गोल्स अवॉर्ड्स कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंंद्र मोदी के अलावा एक और भारतीय को ‘चेंजमेकर अवॉर्ड’ मिला है। राजस्थान में बाल श्रम और बाल विवाह को खत्म करने के लिए चलाए जा रहे अभियान के लिए पायल जांगिड़ ने यह अवॉर्ड प्राप्त कर देश को गौरवान्वित किया है।

 

 

 

समाज में बदलाव लाने के लिए राजस्थान की पायल जांगिड़ को ‘चेंजमेकर अवार्ड’ से सम्मानित किया है। दरअसल, बिल एंड मिलिंडा गेट्स फाउंडेशन ने समाज में बदलाव लाने के लिए दो भारतीयों को सम्मानित किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी ग्लोबल गोल कीपर्स अवॉर्ड दिया है।

 

 

अवॉर्ड हासिल करने पर पायल ने कहा कि मैं बेहद खुश हूं, पीएम को भी यह पुरस्कार मिला। जिस तरह से हमने हमारे गांव में इन समस्याओं को खत्म किया है, मैं चाहती हूं कि विश्व स्तर पर भी ऐसा ही करने के लिए।

 

Payal-Jangid-Global-Goalkeepers-Award-3

 

नोबेल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी ने पायल के अवॉर्ड हासिल करने पर कहा कि पायल ने आज हमें गौरवान्वित किया है, वह उन युवा महिलाओं में से एक हैं जो भारत और अन्य जगहों पर बच्चों के शोषण के मामले में सबसे आगे हैं। वह उन सहासी बच्चों में से हैं जिन्होंने बाल विवाह करने से साफ इनकार कर दिया। उन्हें देख आसपास के गांवों के बच्चों में भी यहीं सहास आया है।

 

 

बचपन में ही शादी करवा चाहते थे पायल के घरवाले

राजस्थान की रहने वाली पायल जांगिड का उनके घर वाले बचपन में ही शादी करवाना चाहते थे। पायल अपने घरवालों के इस फैसले के खिलाफ खड़ी हो गई और उन्होंने शादी करने से इनकार कर दिया। इसी के साथ पायल जांगिड बाल अधिकारों के लिए संघर्ष करने वाली लड़कियों के लिए प्रतीक बन गई।

 

 

ये पुरस्कार करोड़ों भारतीयों का: पीएम मोदी

जानकरी के लिए बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को स्वच्छ भारत अभियान के लिए बिल और मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन से अवार्ड मिला है। पीएम मोदी को ग्लोबल गोलकीपर अवॉर्ड बिल गेट्स ने दिया। पुरस्कार मिलने पर पीएम मोदी ने कहा कि ये सम्मान मेरा नहीं बल्कि उन करोड़ों भारतीयों का है जिन्होंने स्वच्छ भारत के संकल्प को न केवल सिद्ध किया बल्कि अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में ढाला भी है।

 

उन्होंने आगे कहा कि महात्मा गांधी की 150 जन्म जयंती पर मुझे ये अवार्ड दिया जाना मेरे लिए व्यक्तिगत रूप से भी बहुत महत्वपूर्ण है। ये इस बात का प्रमाण है कि अगर 130 करोड़ लोगों की जनशक्ति, किसी एक संकल्प को पूरा करने में जुट जाए, तो किसी भी चुनौती पर जीत हासिल की जा सकती है।

 

images(19)3493c6bdcbea8f5a4279b594dcc06bd3images(18)

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.