June 25, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

PSC J टापर्स की सफलता का टॉप सीक्रेट, आकांक्षा ने सोशल मीडिया; तो गंधर्व पटेल ने अपनाया यह नायाब तरीका, पहली बार में ही मारी बाजी

– टॉपर्स ने बताया कैसे करें परीक्षा की तैयारी और कैसे करें टाइम मैनेजमेंट
– पीसीएस (जे) 2018 (PCS J 2018) में गोंडा जिले की आकांक्षा तिवारी ने किया टॉप
– गोंडा के ही गंधर्व पटेल ने हासिल की पांचवीं रैंक, पहली बार में ही पाई सफलता
– PCS J में आधे से ज्यादा पदों पर चुनीं गयीं लड़कियां, 315 बेटियां बनीं जज

लखनऊ: उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की ओर से आयोजित उत्तर प्रदेश उत्तर प्रदेश न्यायिक सेवा (सिविल जज) (जूनियर डिविजन) परीक्षा- 2018 (PSC J 2018 Examination) में गोंडा जिले की आकांक्षा तिवारी (Akansha Tiwari) ने टॉप किया है। जबकि गोंडा के ही गंधर्व पटेल (Gandharv Patel) ने इस परीक्षा में पांचवा स्थान प्राप्त किया है। वहीं राजधानी के मेधावियों ने भी अपना परचम लहराया है। लखनऊ के मूलनिवासी और यहां रहकर पढ़ाई करने वाले 50 से ज्यादा अभ्यर्थियों ने परीक्षा में सफलता हासिल की। इनमें से सबसे ज्यादा विद्यार्थी लखनऊ विश्वविद्यालय के विधि संकाय के हैं। उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (UPPSC) ने इस बार नया रिकॉर्ड भी कायम किया है। पहली बार प्रांतीय न्यायिक सेवा यानी PCS-J में आधे से ज्यादा पदों पर लड़कियां चुनी गई हैं। 610 पदों पर हुई भारी भरकम भर्ती में से 315 पदों पर बेटियों ने कब्जा जमाया है। मतलब 315 बेटियां जज बनीं हैं।

 

images(134)

 

 

पढ़ाई का नहीं होता कोई तय समय
पीसीएस (जे) परीक्षा- 2018 में टॉप करने वाली आकांक्षा तिवारी (Akansha Tiwari) गोंडा जिले की हैं। पीसीएस (जे) 2018 में पहला स्‍थान हासिल करने वाली आकांक्षा ने अपनी इस शानदार सफलता का राज खोतले हुए बताया कि युवाओं को सही दिशा में मेहनत पर भरोसा करना चाहिए। पढ़ाई के लिए कोई तय समय नहीं होता। सभी को जब भी समय मिले मन लगाकर पूरी ईमानदारी से पढ़ाई करें। आकांक्षा अपनी सफलता का सारा श्रेय अपने गुरु के साथ-साथ माता-पिता और दादा-दादी को देती हैं। आकांक्षा ने बीएससी दिल्ली यूनिवर्सिटी से पास किया। इसके बाद चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी मेरठ से एलएलबी 2017 में पास किया। आकांक्षी तिवारी का नाता लखनऊ से भी है। दरअसल आकांक्षा माता-पिता गोमतीनगर के विभवखंड में रहते हैं। आकांक्षा के पिता ने बताया कि बेटी एलएलबी में गोल्ड मेडलिस्ट रही है। आकांक्षा मेरे परिवार की पहली अफसर बनी है।

 

 

यू-ट्यूब और एजूकेशन एप से ली मदद
आकांक्षा ने बताया कि सोशल मीडिया समय की बर्बादी नहीं है, बल्कि इसका उपयोग पढ़ाई में किया जाए तो नतीजे शानदार हो सकते हैं। मैंने पीसीएस-जे की तैयारी के लिए सोशल मीडिया के साथ ही यू-ट्यूब (Youtube) और एजूकेशन एप (Education App) का भी सहारा लिया। मेरी सफलता में घरवालों के साथ ही इनका योगदान भी अहम है। आकांक्षा ने बताया कि पीसीएस-जे (PCS J) की तैयारी में अक्सर वह यूट्यूब और एजूकेशन एप का सहारा लेती थीं।

 

 

नहीं है अलग से तैयारी की जरूरत
वहीं पीसीएस जे परीक्षा में पांचवा स्थान प्राप्त करने वाले गोंडा के गंधर्व पटेल (Gandharv Patel) ने बताया कि इस परीक्षा में अलग से पढ़ने की जरूरत नहीं है। परीक्षा के लिए मैंने एलएलबी ऑनर्स के साथ ही तैयारी जारी रखी। इसीलिए एलएलबी के बाद इसीलिए मुझे पहले प्रयास में ही सफलता हासिल हुई। गंधर्व ने बताया कि परीक्षा की तैयारी के लिए मैंने रोज नियम से पढ़ाई की और अपने खुद के नोट्स बनाए। इसके अलावा मेरी इस सफलता में रिवीजन का बड़ा योगदान रहा है। गंधर्व ने बताया कि उनके पिता राम प्रताप वर्मा और मां गायत्री देवी शिक्षक हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.