August 15, 2022

Such Ke Sath

सच के साथ

Putin India Visit: मोदी बोले-भारत और रूस के संबंध दूसरों के लिए उदाहरण, जानें पुतिन ने क्या कहा

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हैदराबाद हाउस में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मुलाकात की। भारत की अपनी संक्षिप्त यात्रा पहुंचे रूस के राष्‍ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हैदराबाद हाउस में गर्मजोशी से गले मिलकर स्वागत किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कोविड की चुनौतियों के बावजूद भारत और रूस के बीच द्विपक्षीय संबंधों और सामरिक भागीदारी में कोई बदलाव नहीं आया है। कोविड के खिलाफ लड़ाई में भी दोनों देशों के बीच सहयोग रहा है। आर्थिक क्षेत्र में भी हमारे रिश्तों को आगे बढ़ाने के लिए हम एक दीर्घकालिक दृष्टि अपना रहे हैं। हमने 2025 तक 30 बिलियन डॉलर ट्रेड और 50 बिलियन डॉलर के निवेश का लक्ष्य रखा है।

पीएम मोदी ने कहा कि आज हमारे बीच हुए विभिन्न समझौतों से इसमें मदद मिलेगी। मेक इन इंडिया कार्यक्रम के तहत कोर डेवलपमेंट और को प्रोडक्शन से हमारा रक्षा सहयोग और मज़बूत हो रहा है। 2021 हमारे द्विपक्षीय संबंधों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, इस वर्ष हमारे 1971 की ट्रीटी ऑफ पीस फ्रेंडशिप एंड कोऑपरेशन के पांच दशक और हमारी सामरिक भागीदारी के 2 दशक पूरे हो रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से कहा, आपकी यात्रा भारत के साथ आपके संबंधों की प्रतिबद्धता को दर्शाती है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ वार्ता में कहा कि हमारी खास और विशेषाधिकार प्राप्त रणनीतिक साझेदारी और मजबूत हो रही है। प्रधानमंत्री मोदी ने आगे कहा कि कोविड-19 के बावजूद भारत और रूस के बीच संबंधों की गति में कोई बदलाव नहीं आया है। पीएम मोदी ने कहा, पिछले कुछ दशकों में दुनिया में कई बुनियादी बदलाव हुए हैं, नए समीकरण सामने आए हैं, साथ ही कई भूराजनीतिक समीकरण उभरे हैं, लेकिन इस तरह के तमाम बदलावों के बीच भारत-रूस की दोस्ती कायम रही है। दोनों देशों के बीच संबंध अद्वितीय और भरोसेमंद रहे हैं और दूसरों के लिए उदाहरण हैं।

पीएम मोदी से मुलाकात के दौरान रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि हम सहयोगी हैं और बहुत महत्वपूर्ण चीजों पर साथ काम कर रहे हैं जिसमें ऊर्जा क्षेत्र, अंतरिक्ष सहित उच्च तकनीक शामिल हैं। आज हमने यहां जिन प्रोग्राम पर बात की है उन्हें पूरी तरह से लागू किया जाएगा जिसमें भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों की ट्रेनिंग शामिल है। मुझे भारत का दौरा करके बहुत खुशी हो रही है। पिछले साल दोनों देशों के बीच ट्रेड में 17% की गिरावट हुई थी परन्तु इस साल पहले 9 महीनों में ट्रेड में 38% की बढ़ोतरी देखी गई है।

 

पुतिन की यात्रा पर अमेरिका की नजर

खबर है कि रूसी राष्ट्रपति पुतिन भारत को एस-400 एयर डिफेंस सिस्टम (Defence System) का मॉडल सौंपने वाले हैं. ये वही मिसाइल्स हैं जिनके चलते भारत पर अमेरिका के प्रतिबंधों का खतरा मंडरा रहा है. हालांकि भारत सिर्फ एस-400 मिसाइल्स ही नहीं बल्कि इसके अलावा एके-203 राइफल्स को लेकर भी 5100 करोड़ का बड़ा कॉन्ट्रेक्ट भी रूस के साथ कर सकता है.

 

रिपोर्ट्स के अनुसार, इस कॉन्ट्रेक्ट से भारतीय सेना को 7.5 लाख राइफल्स मिलने की उम्मीद हैं और ये राइफल्स तीस साल पुरानी आईएनएसएएस राइफल्स की जगह ले सकती हैं. रिपोर्ट के मुताबिक, दोनों ही देश इग्ला-एस शॉल्डर फायर्ड मिसाइल पर भी चर्चा कर सकते हैं. दोनों देशों ने महामारी के दौरान वैक्सीन के परीक्षण और उत्पादन से लेकर, नागरिकों के संबंधित देशों में लौटने को लेकर मजबूती से सहयोग किया.

रूस के साथ व्यापार बढ़ाने पर भारत का फोकस 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कहना है कि रूस के साथ आर्थिक मामलों में अपनी साझेदारी को मजबूत करने के लिए एक दीर्घकालिक दृष्टिकोण अपना रहे हैं. सरकार ने 2025 तक 30 अरब डॉलर के व्यापार और 50 अरब डॉलर के निवेश का लक्ष्य रखा है. उन्होंने कहा कि ‘मेक इन इंडिया’ के तहत, सह-विकास और सह-उत्पादन रक्षा क्षेत्र में हमारी साझेदारी को मजबूत कर रहे हैं.

भारत और रूस के बीच हुई कलाश्निकोव सीरीज स्मॉल आर्म्स मैन्युफैक्चरिंग डील के तहत भारत में 6 लाख से ज्यादा AK-203 राइफल्स का निर्माण किया जाएगा. इसके अलावा रूस से 70,000 राइफलें खरीदी जाएंगी, जिसके लिए अगस्त में समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे. इसके साथ ही साल 2021-2031 से दोनों देशों के बीच तकनीकी सहयोग कार्यक्रम पर समझौता हुआ है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.