August 4, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

UP:कांग्रेस पर बरसे योगी आदित्यनाथ, कहा- यूपीए सरकार भी लाई थी कृषि कानून

लखनऊ. यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किसान आंदोलन के मुद्दे पर कांग्रेस को आड़े हाथ लिया है. योगी ने सोमवार को प्रेस वार्ता में कहा कि कांग्रेस आज जिस कानून का विरोध कर रहा है, उसी कानून को यूपीए सरकार भी लाई थी. ये कांग्रेस का दोहरा चरित्र है.

इस पीसी में योगी ने कहा, “किसानों के मुद्दे पर राजनीति दलों द्वारा वातावरण खराब करने की कोशिश की जा रही है. कांग्रेस नेतृत्व की यूपीए सरकार ने साल 2010-11 में विभिन्न राज्यों को पत्र भेजे थे. उस समय तत्कालीन कृषि मंत्री शरद पवार ने राज्यों को पत्र भेजे थे. उन्होंने उस समय कहा था कि एपीएमसी एक्ट में व्यापक संशोधन की आवश्यकता है और मॉडल एक्ट भारत सरकार तैयार कर रही है.”

योगी ने कहा कि उस समय देश के पीएम मनमोहन सिंह थे जबकि यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी थीं. मुझे आश्चर्य है कि आज किसानों को लेकर किस तरह राजनीति की जा रही है.

कृषि कानूनों के विरोध में बैठे किसानों का प्रदर्शन लगातार जारी है। इसके समर्थन में किसान संगठनों ने आठ दिसंबर को भारत बंद का आह्वान किया है। देशभर में किसानों द्वारा बुलाए गए इस बंद को समर्थन मिल रहा है और इसके साथ ही तमाम राजनीतिक पार्टियां किसानों के समर्थन में सामने आ गई हैं। इन राजनीतिक पार्टियों के लामबंद होने के बाद अब भारतीय जनता पार्टी ने भी इस पर अपना कड़ा रुख इख्तियार कर लिया है। आज इस संबंध में केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विपक्ष पर जमकर प्रहार किया और उनकी नियत पर सवाल खड़े किए। भाजपा के इन नेताओं ने जिन मुद्दों को उठाने का प्रयास किया वो निम्न प्रकार हैं- 

विपक्ष कर रहा अपना वजूद बचाने की कोशिश
किसान आंदोलन के नेताओं ने साफ-साफ कहा है कि राजनीतिक लोग हमारे मंच पर नहीं आएंगे। हम उनकी भावनाओं का सम्मान करते हैं। लेकिन ये सभी कूद रहे हैं, क्योंकि इन्हें भाजपा और नरेंद्र मोदी जी का विरोध करने का एक और मौका मिल रहा है। विपक्ष अपना वजूद बचाने की कोशिश कर रहा है।

2019 के चुनाव में कांग्रेस के घोषणा पत्र पर सवाल
भाजपा का कहना है कि कांग्रेस पार्टी ने 2019 के चुनाव में अपने चुनाव घोषणा पत्र में साफ-साफ कहा है कि वो एग्रीकल्चर प्रोड्यूस मार्केट एक्ट को समाप्त करेगी और किसानों को अपनी फसलों के निर्यात और व्यापार पर सभी बंधनों से मुक्त करेगी। अब क्या हुआ वो इससे पीछे क्यों हट रहे हैं।

शरद पवार की मुख्यमंत्रियों को चिट्ठी पर सवाल
शरद पवार जब देश के कृषि और उपभोक्ता मामलों के मंत्री थे तो उन्होंने देश के सारे मुख्यमंत्रियों को चिट्ठी लिखी थी। जिसमें उन्होंने लिखा था कि मंडी एक्ट में बदलाव जरूरी है, निजी सेक्टर का आना जरूरी है, किसानों को कहीं भी अपनी फसल बेचने का अवसर मिलना चाहिए।

मुलायम के बहाने समाजवादी पार्टी पर निशाना
अखिलेश जी एग्रीकल्चरल स्टैंडिंग कमेटी की रिपोर्ट आई है। उसमें आपके पिता मुलायम सिंह यादव भी सदस्य हैं। उन्होंने भी उस रिपोर्ट में साफ-साफ कहा है कि ये बहुत जरूरी है कि किसानों को मंडियों के चंगुल से मुक्त किया जाए।

नए कानून को नोटिफाई करने पर ‘आप’ को घेरा
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए भाजपा ने कहा, ‘नए कानून को 23 नवंबर 2020 को दिल्ली सरकार ने गजट करके नोटिफाई कर दिया था। एक तरफ आप विरोध कर रहे हैं दूसरी तरफ नोटिफाई कर रहे हैं।

27 thoughts on “UP:कांग्रेस पर बरसे योगी आदित्यनाथ, कहा- यूपीए सरकार भी लाई थी कृषि कानून

  1. Greetings! This is my 1st comment here so I just wanted to give a quick shout out and tell you I genuinely enjoy reading your posts. Nike Jarred Kancler

  2. Some genuinely nice and utilitarian info on this internet site, besides I believe the style and design has got superb features. Emogene Quincey Ginelle

  3. Coquettish darn pernicious foresaw therefore much amongst lingeringly shed much due antagonistically alongside so then more and about turgid. Carolynn Glynn Genesia

  4. You made a number of good points there. I did a search on the subject matter and found mainly persons will go along with with your blog. Jayme Feodor Camel

  5. Excellent pieces. Keep writing such kind of info on your blog.
    Im really impressed by it.
    Hey there, You have done an incredible job. I will definitely
    digg it and for my part recommend to my friends. I am sure they will be benefited from
    this website.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.