December 5, 2020

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

UP:दशहरा पर विशेष परिधान पहन गोरखनाथ मंदिर में पूजा करते CM योगी आदित्यनाथ

गोरखपुर |नवरात्र की नवमी तिथि में कन्या पूजन के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखनाथ मंदिर में मंगल ध्वनि के बीच श्रीनाथजी की पारंपरिक नवमी आराधना की। इस पूजा के लिए मुख्यमंत्री योगी महानिशा पूजन के बाद पहली बार अपने आवास से बाहर आए। पूजा के लिए नाथ पंथ के विशेष पारंपरिक परिधान में उनके बाहर आते ही पूरा परिसर ढोल, घंटा-घड़ियाल, नगाड़ा, नागफनी (नाथ पंथ का विशेष वाद्ययंत्र) और शंख की मंगल ध्वनि से गूंज उठा।

नाथ योगियों की समाधि पर भी गए सीएम

दो घंटे चली इस विशेष पूजा के दौरान पूरे समय यह मंगल ध्वनि गूंजती रही। मुख्यमंत्री ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ एवं ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ समेत परिसर में मौजूद सभी नाथ योगियों की समाधि पर गए और पूजन कर उनका भी आशीर्वाद लिया।

गायों को खिलाया गुड़

इस पूजन-प्रक्रिया में मंदिर के सभी संत, पुरोहित और पुजारी शामिल हुए। श्रीनाथ जी की पूजा के बाद मुख्यमंत्री परिसर में मौजूद सभी देव-विग्रहों के दरबार में गए और उनकी भी पूजा-अर्चना की। इसी क्रम में वह गोशाला भी गए और गोसेवा की। गायों को गुड़ खिलाया। उन्‍हें सहलाया और एकतरफ संवाद भी किया। 

मुख्यमंत्री ने अयोध्या में भव्य श्रीराम मंदिर निर्माण के शुभारंभ का जिक्र करते हुए कहा कि मंदिर निर्माण के लिए 492 वर्षों की लड़ाई में गोरखपुर का अटूट संबंध रहा है. कहा कि उनके दादा गुरु ब्रह्मलीन महंत दिग्विजय नाथ और गुरु ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ के साथ आंदोलन में गोरखपुर के हज़ारों लोगों ने अयोध्या कूच किया था. ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ तो रामजन्म भूमि मुक्ति यज्ञ समिति के प्रणेता व अगुवा थे. गोरखनाथ मंदिर से निकली योगी आदित्‍यनाथ की शोभायात्रा के दौरान उनकी सुरक्षा व्यवस्था काफी तगड़ी रही.

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

loading...
Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Powered By : Webinfomax IT Solutions .
EXCLUSIVE