January 20, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

UP:दुनिया के 32 देशों में अपने 52 प्लांट चला रही है कंपनी,अब चित्रकूट में 400 करोड़ की लागत का प्लांट लगाएगी ये ब्रिटिश कंपनी

  • चित्रकूट में प्लांट लगाएगी ब्रिटिश कंपनी एबी मौरी
  • योगी सरकार ने दी 68 एकड़ जमीन
  • दुनिया के 32 देशों में अपने 52 प्लांट चला रही है कंपनी

लखनऊ |ब्रिटिश कंपनी एबी मौरी चित्रकूट में 400 करोड़ रुपये की लागत का प्लांट लगाएगी. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण के जरिए कंपनी को करीब 68 एकड़ जमीन दी है. एबी मौरी ने इसके लिए नवंबर में आवेदन किया था.

इस आवेदन के 15 दिन बाद ही कंपनी को जमीन अलाट कर दी गई. फिलहाल ब्रिटिश कंपनी एबी मौरी दुनिया के 32 देशों में अपने 52 प्लांट चला रही है. यूपी  बरगढ़ औद्योगिक क्षेत्र में एबी मौरी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को यह जमीन दी गई है.

औद्योगिक निवेश और रोजगार के लिए जूझते रहे उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड के लिए यह अच्छे दिनों की आहट है। ब्रिटिश कंपनी एबी मौरी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड चित्रकूट में यीस्ट (खमीर) उत्पादन का प्लांट लगाने जा रही है। 400 करोड़ रुपये की इस निवेश परियोजना से आसपास के जिलों के लगभग पांच हजार लोगों को प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रोजगार मिलने की उम्मीद है। खास बात है कि उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण (यूपीसीडा) ने आवेदन के महज पंद्रह दिन में कंपनी को जमीन आवंटित की है।

यूपी के चित्रकूट स्थित यूपीसीडा के बरगढ़ औद्योगिक क्षेत्र में एबी मौरी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को 68 एकड़ जमीन आवंटित की गई है। कंपनी ने नवंबर, 2020 में निवेश मित्र पोर्टल के जरिये आवेदन किया था। यूपीसीडा ने कंपनी के मेगा इकाई आवेदन को गंभीरता से लेते हुए तुरंत जमीन चिन्हित कर सस्ते दरों पर मात्र पंद्रह दिन में जमीन आवंटित कर दी। कंपनी द्वारा बेकर्स यीस्ट यानी खमीर उत्पादन की इकाई लगाई जानी है।

कंपनी ने 2020 में निवेश मित्र पोर्टल के जरिए आवेदन किया था. यह कंपनी बेकर्स यीस्ट यानी खमीर का उत्पादन करने के लिए मशहूर है. प्लांट में जर्मनी और स्पेन की मशीनों से 33000 मिलियन टन खमीर का उत्पादन किया जाएगा. हैरानी की बात यह है कि इसमें जीरो लिक्विड डिसचार्ज होगा.

उत्तर प्रदेश राज्य औद्योगिक विकास प्राधिकरण के सीईओ मयूर माहेश्वरी ने बताया कि एबी मौरी प्राइवेट लिमिटेड का ये प्लांट बुंदेलखंड इलाके के लिए बेहद लाभदायक साबित होगा.  महामारी के दौरान प्रदेश में करीब 191 इकाइयों को 167 एकड़ जमीन आवंटित की है इससे 1457 करोड़ रुपए का इन्वेस्टमेंट हुआ है और करीब 20000 लोगों के लिए रोजगार के रास्ते खुले हैं.

चित्रकूट में लगने वाले यीस्ट प्लांट में जर्मनी और स्पेन की मशीनों से 33 हजार मिलियन टन खमीर उत्पादन प्रस्तावित है, जिसका जीरो लिक्विड डिस्चार्ज होगा। यूपीसीडा के अधिकारियों ने बताया कि 32 देशों में 52 प्लांट चला रही एबी मौरी कंपनी की विश्व में खमीर उत्पादन में 45 फीसद हिस्सेदारी है। चूंकि, इस प्लांट में मुख्य फसल के रूप में गन्ने और गेहूं का इस्तेमाल होना है, इसलिए कंपनी स्थानीय और आसपास के किसानों से फसल की खरीद करेगी, जिसका लाभ किसानों को होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.