January 21, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

UP:पंचायतों में समय से चुनाव न कराकर सरकारी प्रशासक की तैनाती लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन: अखिलेश यादव

लखनऊ |सपा अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा सरकार लोकतंत्र की मूलभावना पर कुठाराघात करने की साजिशों में लगी है। प्रदेश में ग्राम पंचायतों का कार्यकाल 25 दिसंबर को समाप्त हो रहा है जबकि जिला पंचायतों का कार्यकाल 15 जनवरी को समाप्त हो रही है। भाजपा सरकार समय पर चुनाव न कराकर इनमें सरकारी प्रशासक नियुक्त करना चाहती है। यह जनता के लोकतांत्रिक अधिकारों का हनन है।


अखिलेश यादव ने शुक्रवार को कहा, विपक्ष सरकारी कुनीतियों के विरोध में खड़ा है। इससे सरकार डर गई है। एक-एक कर वह संवैधानिक संस्थानों को निष्क्त्रिस्य बनाने और जनप्रतिनिधियों को अपमानित करने का काम कर रही है। जनता, भाजपा की इस जनविरोधी और संविधान विरोधी आचरण को भली प्रकार पहचान रही है। वह समय आने पर इसका करारा जबाव देगी। उन्होने कहा, भाजपा सरकार इसी तरह कोरोना का बहाना बनाकर लोकसभा का शीतकालीन सत्र टालकर किसानों व विपक्ष का सामना करने से बच रही है। संसद में बहस रोक कर भाजपा असहमति के स्वर का दमन करना चाहती है। भाजपा विपक्ष और विरोध के खिलाफ बड़ा षडयंत्र कर रही है।

उन्होंने कहा कि भाजपा का यह दोहरा चरित्र इस बात से उजागर है कि जब कोरोना के संक्रमण काल में मध्य प्रदेश में सरकार बन सकती है, बिहार में विधानसभा का चुनाव हो सकता है, पश्चिम बंगाल में भाजपा नेताओं की बड़ी-बड़ी रैलियां हो सकती हैं, मुख्यमंत्री काशी, अयोध्या में दीपोत्सव में शामिल हो सकते हैं तो फिर पंचायत चुनाव और संसद के शीतकालीन सत्र के स्थगन का क्या औचित्य है यह तो भाजपा का डर है कि वह अब चुनाव से भाग रही है और उसके लिए बहानेबाजी कर रही है।

समाजवादी पार्टी (सपा) अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि सत्ता के मद में चूर उत्तर प्रदेश की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार की गलत नीतियों के चलते जनता को परेशानियों से जूझना पड़ रहा है। यादव ने गुरूवार को कहा कि सत्ताधारियों ने प्रदेश में अवैध खनन कर खुल लूट मचा रखी है। पुलिस प्रशासन और सरकार तीनों ही अपना हिस्सा लेकर चुप्पी साधे बैठी है। कानपुर के बिधनू में सत्ताधारी नेता का रिश्तेदार ग्राम समाज की जमीन पर अवैध खनन करा रहा है। एक हिन्दू वाहिनी के नेता हाथरस में नकली मसाला बनाने के लिए गोबर भूसे एवं हानिकारण तेल मिलावट करते धरे गए हैं। आगरा में देशी घी की एक नकली देशी घी की फैक्ट्री में जानवरों की चर्बी, हड्डियां, पैर और खुर मिले हैं। भ्रष्टाचार पर जीरों टॉलरेंस की रट लगाने वाले मुख्यमंत्री ने अभी तक लोगों की जिंदगी में मिलावट का जहर घोलने वालों पर एनएसए क्यों नहीं लगाया है।

उन्होंने कहा कि सच तो यह है कि प्रदेश में अपराध और अपराधी सत्ता संरक्षित है। यहां जंगलराज है। विपक्षी नेताओं का खुले आम खून बहाया जा रहा है। सोनभद्र में सपा नेता रामभुवन यादव की हत्या की गई है। बकेवर में तो भाजपा के ही एक पूर्व मंत्री अमरजीत सिंह को जब अपने क्षेत्र में पुलिस की वसूली की खबरें मिलीं तो वही शिकायत करने पुलिस अधिकारियों के पास जाने को मजबूर हुए।

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में लूट, डकैती की वारदातें चरम पर हैं। आगरा में दिनदहाड़े बैंक कर्मियों को बंधक बनाकर बदमाशों ने 57 लाख रूपए की लूट की। आए दिन ऐसी वारदातें होती है पर भाजपा सरकार और पुलिस आंखे मूंदे बैठी रहती है। सच तो यह है कि समाज में नफरत का जह़र घोलने का काम हो या मिलावट का, कोई भी अवैध काम हो हर जगह भाजपाई नेता ही गुनहगार मिलते है। सीमा पर जवान और दिल्ली में किसान शहादत दे रहा है लेकिन मुख्यमंत्री अन्नदाता की ही बदनामी में रूचि ले रहे हैं। भाजपा सरकार सचसच पूछों तो जुल्म में अंग्रेजों से भी आगे निकल गई है। 

विशेष सत्र बुलाकर हो कृषि बिलों पर चर्चा

सपा अध्यक्ष ने कहा, भाजपा का संविधान, लोकतंत्र व संसदीय व्यवस्था पर विश्वास है तो उसे लोकसभा एवं विधान सभा का सत्र बुलाकर देश में किसान बिल, निजीकरण, बेरोजगारी, महंगाई तथा प्रदेश में गिरती कानून व्यवस्था, शिक्षा व स्वास्थ्य क्षेत्र में अव्यवस्था, अवरुद्ध विकास, महिला सुरक्षा व किसानों के रुके हुए कामों पर तुरंत चर्चा करानी चाहिए।

अंग्रेजों से भी ज्यादा निर्दयी सरकार
देश इस समय संक्रमण के दौर में है। कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे आंदोलन में 24 किसान शहीद हो चुके हैं। दंभी भाजपा सरकार अंग्रेजों से भी ज्यादा निर्दयी हो चुकी है। सर्वोच्च न्यायालय ने भी किसानों के आंदोलन के अधिकार को माना है। लेकिन, भाजपा सरकार अपनी बातें किसानों पर थोपने में लगी है।

भाजपा सरकार में बिना लड़े इंसाफ मिलता है न हक
सपा अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने हाथरस कांड में चार्जशीट दाखिल होने पर भाजपा सरकार को कठघरे में खड़ा किया है। उन्होंने कहा कि भाजपा राज में बिना लड़े न इंसाफ मिलता है और न ही हक।
अखिलेश यादव ने शुक्रवार को ट्वीट किया, हाथरस कांड में प्रदेश की भाजपा सरकार की लाख कोशिशों के बाद भी जनता, विपक्ष व सच्चे मीडिया के दबाव से सीबीआई जांच बैठानी ही पड़ी। अब पीड़िता के अंतिम बयान के आधार पर चारों अभियुक्तों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल हुई है। भाजपा सरकार से बिना लड़े कुछ भी नहीं मिलता, न इंसाफ, न हक।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.