January 19, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

UP: गोरखपुर में जनता दरबार में सीएम ने सुनी सौ से अधिक समस्याएं,वितरित किये कंबल

गोरखपुर।मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गोरखपुर में रविवार देर रात रैन बसेरों का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होंने कुछ निराश्रितों को कंबल भी बांटे। मुख्यमंत्री सबसे पहले रेलवे स्टेशन के सामने स्थित रैन बसेरा पहुंचे। इसके बाद गोरखनाथ (झूलेलाल मंदिर) के पास स्थित रैन बसेरों का निरीक्षण कर उपलब्ध कराई जा रही सुविधाओं को देखा।

सीएम ने कहा कि रैन बसेरों में आने वाले लोगों को बेहतर व्यवस्था उपलब्ध कराने के साथ ही चौराहों एवं प्रमुख स्थानों पर अलाव की भी व्यवस्था की जाए। इस दौरान मुख्यमंत्री ने रैन बसेरे में बागपत, रामनगर, सहारनपुर, तमकुही से आए लोगों से सुविधाओं के बारे में जानकारी ली। उन्होंने गरीबों में कंबल का भी वितरण किया। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को गोरखनाथ मंदिर में जनता दरबार लगाया। इस दौरान सौ से अधिक समस्याएं उनके सामने रखीं गईं। सीएम ने सभी की बातों को सुनने के बाद भरोसा दिया कि जल्द ही समस्या का समाधान हो जाएगा।

जानकारी के अनुसार, सीएम के जनता दरबार में 40 से अधिक फरियादी मंडल के बाहर के थे। इन लोगों का प्रार्थनापत्र सीएम अपने साथ लखनऊ ले गए। वहीं, मंडल के फरियादियों का प्रार्थनापत्र यहीं रखा गया। मुख्यमंत्री ने अपने स्थानीय कार्यालय के पदाधिकारियों को निर्देश दिया कि संबंधित जिले के अधिकारियों को कहा जाए कि फरियादियों की समस्याओं का शीघ्र निस्तारण करें।

दो दिवसीय दौरे पर रविवार को गोरखपुर आए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ रात्रि विश्राम मंदिर में किया। सुबह सबसे पहले उन्होंने गुरु गोरखनाथ का दर्शन पूजन किया। इसके बाद मंदिर का भ्रमण किया। साफ सफाई की व्यवस्था देखी। मेला परिसर में हो रहे निर्माण कार्यों का निरीक्षण किया। गोशाला में जाकर गायों को गुड़ और बिस्कुट खिलाया। इसके बाद कार्यालय के पास बैठे, जहां उनसे मिलने आए फरियादी बारी बारी से मिले। सभी की समस्याएं सुनीं और मौजूद अधिकारियों से कहा कि समस्या का निस्तारण प्राथमिकता के आधार पर कराएं। अधिकतर फरियादी जमीन से संबंधित विवाद लेकर आए थे। कइयों की शिकायत थी मामले में पुलिस सही कार्रवाई नहीं कर रही है।

मुख्यमंत्री से क्रॉस सब्सिडी चार्ज खत्म कराने की मांग


चेंबर ऑफ इंडस्ट्रीज ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर क्रॉस सब्सिडी चार्ज खत्म करने की मांग की है। सोमवार को चेंबर के एक प्रतिनिधिमंडल ने सीएम से गोरखनाथ मंदिर में मुलाकात कर इस संबंध में ज्ञापन सौंपा। उनका कहना था कि कोरोना संकट के दौरान उद्योग बहुत ही खराब दौर से गुजर रहे हैं। ऐसे में ओपन एक्सेस से बिजली खरीद पर लगाया गया क्रास सब्सिडी सरचार्ज उद्योगों के लिए मुसीबत का सबब बन गया है।


सोमवार को चेंबर ऑफ इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष विष्णु अजीत सरिया के नेतृत्व में पदाधिकारियों ने गोरखनाथ मंदिर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर ज्ञापन दिया। कहा कि पूर्व में प्रदेश के उद्यमी महंगी बिजली की वजह से परेशान थे। मुख्यमंत्री की पहल के बाद प्रदेश में औद्योगिक इकाइयों के लिए ओपेन एक्सेस से बिजली खरीद की व्यवस्था शुरू की गई, लेकिन नवंबर में उत्तरप्रदेश पावर कारपोरेशन लिमिटेड द्वारा ओपेन एक्सेस से बिजली खरीद पर पहले लिए जा रहे चार्जेज और लॉसेज के अलावा औद्योगिक उपभोक्ताओं पर 1.56 रुपये प्रति यूनिट की दर से चार्ज लगा दिया गया है। साथ ही मुख्यमंत्री से यह भी कहा गया कि चार दिसंबर को गीडा में उद्योग भवन के लोकार्पण के मौके पर इस क्रास सब्सिडी चार्ज को खत्म करने का प्रस्ताव भेजने का आश्वासन दिया गया था। मांग की गई कि ऐसे में तत्काल प्रभाव से इसे खत्म कराने का निर्देश दिया जाए।


बैंक संबंधी समस्याओं को दूर करेगी जिला एवं मंडल स्तरीय समिति
उद्यमी ज्योति मस्करा ने जब मुख्यमंत्री से बैंकों द्वारा ऋण देने में उदासीनता अपनाने की बात कही तो मुख्यमंत्री ने कहा कि बैंक संबंधी समस्याओं के समाधान के लिए जिला और मंडल स्तर पर कमेटी गठित की गई है। जो भी उद्यमी बैंक की शर्तों के अनुरूप आवेदन करेंगे, उनको ऋण मिलने में किसी भी तरह की दिक्कत न हो इसको यह कमेटी देखेगी। वहीं चेंबर ऑफ इंडस्ट्रीज के पूर्व अध्यक्ष एसके अग्रवाल ने मुख्यमंत्री से गीडा बोर्ड में चेंबर ऑफ इंडस्ट्रीज के पदाधिकारियों को विशेष आमंत्रित सदस्य के रूप में शामिल करने की मांग की। अशोक जालान ने गारमेंट उद्योग के लिए जल्द से जल्द गारमेंट पार्क बनाकर उद्यमियों को भूमि उपलब्ध कराने के अलावा छोटे उद्यमियों के लिए फ्लैटेड फैक्ट्री कॉम्प्लेक्स स्थापना कराने की मांग की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.