January 20, 2021

Such Ke Sath

सच के साथ – समाचार

UP:28 नई नगर पंचायतों को मंजूरी, दो नगर निगम क्षेत्रों की बढ़ी सीमाएं, कैबिनेट बाई सर्कुलेशन की बैठक में फैसला

सूबे की योगी सरकार ने सात कलेक्ट्रेट भवनों को गिराने का बड़ा फैसला किया है. प्रदेश के सात जिलों जौनपुर, फतेहपुर, इटावा, हरदोई, अलीगढ़ और वाराणसी के कलेक्ट्रेट व तहसील के जर्जर भवनों को गिराया जाएगा. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कैबिनेट बाई सर्कुलेशन प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है.

लखनऊ|उत्तर प्रदेश में 28 और नगर पंचायतों के गठन को मंजूरी दे दी गई है। यह फैसला सोमवार को कैबिनेट बाई सर्कुलेशन में लिया गया। इसके अलावा गोरखपुर और वाराणसी नगर निगम समेत कुल 23 शहरों की सीमा का विस्तार किया गया है। इनमें 12 नगर पंचायत और 9 नगर पालिका परिषद भी शामिल हैं।

प्रदेश सरकार बढ़ते शहरीकरण की तरफ संवेदनशील है। तमाम शहरों का विस्तार किया गया है और नई नगर पंचायतों का गठन भी। इसी क्रम में सोमवार को कैबिनेट बाई सर्कुलेशन में भी नए शहरी इलाकों के गठन और विस्तार के प्रस्तावों पर मुहर लगा दी गई। जिन नई नगर पंचायतों के गठन को मंजूरी दी गई है, उनमें कंचौसी (कानपुर देहात), असोथर(फतेहपुर), रामसनेही घाट (बाराबंकी), ढकवां (प्रतापगढ़), चरवा (कौशांबी), रामगंज (प्रतापगढ़), महमूद्पूर माफी (मुरादाबाद), सूजाबाद (वाराणसी), सैदन गली (अमरोहा), जवां सिकंदरपुर, गभाना (अलीगढ़), टप्पल (अलीगढ़), मऊ (चित्रकूट), बरौली (अलीगढ़), राजे सुल्तानपुर, जहांगीरगंज (अंबेडकरनगर नगर), कैसरगंज (बहराइच), रटौल (बागपत), रतसड़ कलां (बलिया), कप्तानगंज, मुंडेरवा, गणेशपुर, नगर बाजार(बस्ती), कलान (शाहजहांपुर), खिरौनी सुचित्तागंज, कुमारगंज (अयोध्या), अचलगंज (उन्नाव) और चौक (महराजगंज) शामिल हैं।

बीते साल थे 652 शहरी निकाय
बीते साल दिसंबर में प्रदेश में 652 नगरीय स्थानीय निकाय थे, जिनमें 17 नगर निगम, 198 नगर पालिका परिषद और 437 नगर पंचायतें थीं। दिसंबर 2018 में 56 नई नगर पंचायतों का सृजन किया गया और 41 नगर निकायों का सीमा-विस्तार किया गया। 2 नगर पंचायतों सिसवा बाजार (महराजगंज) और नगर पंचायत मंझनपुर (कौशाम्बी) का उच्चीकरण कर नगर पालिका परिषद बना दिया गया था। दिसम्बर 2020 में 276 राजस्व ग्रामों को शामिल करते हुए 28 नई नगर पंचायतों का सृजन किया गया, 77 राजस्व ग्रामों को शामिल करते हुए 12 नगर पंचायतों का सीमा विस्तार किया गया।

कुल 102 राजस्व ग्राम नगरीय क्षेत्रों में शामिल हुए। इनसे 9 नगर पालिका परिषदों की सीमा का विस्तार किया गया और नगर निगम गोरखपुर के एक राजस्व ग्राम व नगर निगम वाराणसी में 9 राजस्व ग्रामों को शामिल करते हुए नगर निगम की सीमा का विस्तार किया गया। इस प्रकार मौजूदा समय में प्रदेश में 518 नगर पंचायतों, 200 नगर पालिका परिषदों एवं 17 नगर निगमों को मिलाकर कुल नगरीय निकायों की संख्या 735 हो गई है। नए निकायों के गठन और विस्तार से नगरीय जनसंख्या में 9,05,700 का इजाफा हुआ है और क्षेत्रफल 57,474 हेक्टेयर बढ़ा है।

इन शहरी निकायों का सीमा विस्तार-

नगर निगम: गोरखपुर, वाराणसी

नगर पालिका परिषद: चित्रकूट (चित्रकूट), कन्नौज (कन्नौज), भदोही (संत रविदास नगर), जायस (अमेठी), पुखरायां (कानपुर देहात), बहराइच (बहराइच), नवाबगंज (नवाबगंज), गौराबरहज (देवरिया), मारहरा (एटा)

नगर पंचायत: गोला बाजार (गोरखपुर), बबेरू (बांदा), नरौनी (बांदा), तिंदवारी (बांदा), कुल पहाड़ (महोबा), हरगांव (सीतापुर), ओबरा (सोनभद्र), चोपन (सोनभद्र), हर्रैया (बस्ती), परशदेपुर (रायबरेली), रामपुरा (जालौन), औरास (उन्नाव)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Copyright © All rights Reserved with Suchkesath. | Newsphere by AF themes.